अब तक फेंका जा चुका 15 हजार क्विंटल आलू, बढ़ रहा महामारी का खतरा

Thursday, January 11, 2018 1:15 PM
अब तक फेंका जा चुका 15 हजार क्विंटल आलू, बढ़ रहा महामारी का खतरा

फर्रुखाबाद(दिलीप कटियार): जिस आलू को किसानों ने कड़ी मेहनत से इस उम्मीद के साथ पैदा किया कि वो उन्हें बाजार में अच्छी कीमत दिलाएगा। वहीं आलू अब सड़कों और खेतों में फेंका जा रहा है। बाजार में बेशक आलू 5 से 10 रुपए प्रति किलो के भाव से बिक रहा हो, लेकिन किसानों को आलू के दाम एक रुपए प्रति किलो के हिसाब से भी नहीं मिल रहे। इस साल भी अच्छी पैदावार के बाद नए आलू के बाजार में आने से पुराने आलू को कोई नहीं पूछ रहा है। लिहाजा, किसान पुराना आलू सड़कों पर फेंकने को मजबूर हैं।
PunjabKesariआलू की हो रही बेकदरी
उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले में पुराने आलू की बेकदरी इस कदर हुई है कि यह आलू शीतगृहों से अभी तक फेंका जा रहा है। किसानों की भी मजबूरी है कि वह आलू को छुटाने की स्थिति में नहीं है। करीब 15 हजार कुंतल आलू अभी तक शीतगृहों की ओर से सड़को पर फेंका जा चुका है। पांच साल के बाद इस बार भी जिले में आलू फेंकने की नौबत आ रही है। शीतगृहों में अभी भी आलू पड़ा हुआ है। यह भी धीरे-धीरे फेंका जा रहा है। कई कोल्ड स्टोरेज स्वामियों ने गड्ढे करवाकर आलू का निस्तारण करवा दिया है। बस्तियों के निकट आलू फैंकने से महामारी का खतरा मंडरा रहा है।
PunjabKesari
आलू का भंडारण 220 रुपए प्रति कुंतल किया गया था निर्धारित 
जिले में 70 कोल्ड स्टोरेज में 6 लाख 36 हजार मीट्रिक टन आलू पिछली बार भरा गया था जब कि उत्पादन 12 लाख मीट्रिक टन से भी अधिक हुआ था। आलू की बंपर पैदावार वाले इस जिले में आलू की यह गति होगी यह अंदाजा भी नहीं था। लंबे समय बाद किसानों केा इस तरह की स्थिति का सामना करना पड़ा जो किसानों को कोल्ड में ही आलू छोड़ने को मजबूर होना पड़ा है। शीतगृहों में आलू का भंडारण शुल्क 220 रुपए प्रति कुंतल निर्धारित किया गया था।
PunjabKesari
इसलिए फेंकना पड़ रहा आलू
ऐसी स्थिति में किसान न तो भंडारण शुल्क देने की स्थिति में थे। अच्छी क्वालिटी का आलू किसानों ने पहले ही कोल्ड से बाहर करा लिया। मगर सेकेंड ग्रेड के आलू को किसान कोल्ड से बाहर निकालने को तैयार नहीं हैं। इस चक्कर में कोल्ड स्टोरेज स्वामियों को आलू फेंकना पड़ रहा है। दरअसल कई शीतगृह स्वामियों ने किसानों के नाम पर भंडारण कर रखा था। यही आलू ज्यादातर फेंका जा रहा है। प्रक्रिया के अनुसार बगैर किसी की सहमति के बिना आलू फेंका नहीं जा सकता। जिला आलू विकास अधिकारी नेपालराम ने बताया कि जिन किसानों ने आलू नहीं छुड़ाया है। शीतगृह स्वामी नियमानुसार पहले उनको नोटिस देंगे। इसके बाद यदि वे आलू छुड़ाने नहीं आते हैं तो इसका निस्तारण कराया जा सकता है।
PunjabKesari
डीएम ने सख्ती से किया शीतगृह स्वामियों को अलर्ट
वहीं शीतगृह स्वामी आलू फेंकते वक्त यह भी नहीं देख रहे हैं कि इससे क्या परिणाम होंगे। शहर के आस पास के ही कई कोल्ड स्टोरेज स्वामियों ने बस्तियों के निकट आलू फैंकवा दिया है। कटे-फटे आलू से आस पास के लोग भी परेशान होकर रह गए हैं। डीएम ने भी अब सख्ती से शीतगृह स्वामियों को अलर्ट किया है।



आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें-निःशुल्क रजिस्टर