अमिताभ बच्चन के दोस्त अमर ने किया खुलासा, कहा-असल जिंदगी में फेंके हुए पैसे लेकर ही बने अमीर

Friday, January 12, 2018 7:28 PM
अमिताभ बच्चन के दोस्त अमर ने किया खुलासा, कहा-असल जिंदगी में फेंके हुए पैसे लेकर ही बने अमीर

लखनऊः सियासत दिलो में कितनी दूरी और कड़वाहट ला देती है इसके कई उदाहरण देश-दुनिया में मिल जाएंगे। लेकिन आज हम बात कर रहे हैं अमिताभ बच्चन और अमर सिंह की। कभी एक दूसरे के सच्चे और अच्छे दोस्त होने की बात करते है। तो वहीं आज अमर सिंह और अमिताभ के बीच की दूरियां इतनी बढ़ गई है कि दोनों एक दूसरे को फूटी आंख नहीं सुहाते।

PunjabKesari
दरअसल अमिताभ के जिगरी दोस्त अमर सिंह ने एक निजी चैनल के इंटरवयू के दौरान एक खुलासा किया है। उन्होंने खुलासा करते हुए बताया कि बेशक दीवार फिल्म में अमिताभ बच्चन कहते हैं,कि " मैं आज भी फेंके पैसे नहीं उठाता, लेकिन असल जिदंगी में तो वो फेंके हुए पैसे लेकर ही अमीर बने हैं। किसी से 100-100 करोड़ लिए तो किसी से 250 करोड़ रुपए मांग रहे थे।" 
PunjabKesari
जिसके बाद अमर सिंह ने कहा, " अमिताभ बच्चन ने एक पार्टी में खुलासा करते हुए एक बड़े आदमी के बारे में कहा था कि वो उन्हें रुपए देना चाहते थे, लेकिन उन्होंने नहीं लिए। जबकि ये झूठ है। अमिताभ उस शख्स से 250 करोड़ रुपए मांग रहे थे, जबकि वो इन्हें 25 करोड़ रुपए ही देना चाहता था।"
PunjabKesari
"अगर अमिताभ में हिम्मत है तो उस शख्स का नाम बताएं, जिसके पैसे लेने से इंकार किया था। नहीं तो मैं उस शख्स की चिठ्ठी दिखाता हूं, जिसमें उन्होंने 25 करोड़ रुपए देने की बात कही थी। मेरे पास बैंक के लेन-देन से जुड़े वो सारे सुबूत हैं जिसमें अमिताभ ने करोड़ों रुपए लिए हैं। 100 करोड़ रुपए तो इन्होंने आज तक नहीं लौटाए हैं। मेरे पास मौजूद सबूत सार्वजनिक रूप से अमिताभ को एक्सपोज कर देंगे।"

सितंबर 2011 में तिहाड़ जेल को याद करते हुए अमर सिंह कहते हैं, "उन चार दिनों ने मेरे व्यक्तिव और चरित्र को बदल दिया। अमेरिका-भारत न्यूक्लियर डील और कांग्रेस की सरकार बचाने के इनाम के रूप में मुझे तिहाड़ जेल में एक चटाई, बाल्टी और एक मग मिला था।"
PunjabKesari
"अफसोस इस बात का है कि मैं उन्हीं दिनों किडनी ट्रांसप्लांट कराकर सिंगापुर से लौटा था। बावजूद इसके मुझे एक मग दिया गया था कि ‘अगर प्यास लगे तो पी लेना और शौच लगे तो धो लेना।’ उस घटना से मुझे इतनी पीड़ा हुई थी कि जैसे एक जिंदा बलात्कार पीड़िता अपने दर्द को महसूस करती है।"



अपना सही जीवनसंगी चुनिए | केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन