UP: डीएम का अफसरों को फरमान, गांव-गांव जाकर चेक करें खुले में शौच

Thursday, December 7, 2017 12:45 PM
UP: डीएम का अफसरों को फरमान, गांव-गांव जाकर चेक करें खुले में शौच

पीलीभीतः खुले में शौच मुक्त प्रदेश इस अभियान को पूरा करने में योगी सरकार कोई कोर कसर नहीं छोड़ रही है। लेकिन इन दिनों यह अभियान पीलीभीत जिले के अफसरों के लिए किसी तुगलकी फरमान से कम नहीं साबित हो रहा।

84 अधिकारियों को मिली अनोखी जिम्मेदारी
दरअसल यहां जिलाधिकारी ने स्वच्छता अभियान को लेकर अफसरों को सजग रखने का अनोखा तरीका निकाला है। उन्होंने जिले के 84 अधिकारियों को हर हफ्ते 2 दिन गांवों में जाकर साफ-सफाई का जायजा लेने की विशेष जिम्मेदारी दी है। जिसके तहत उन्हें हफ्ते में 2 बार गांवों का निरीक्षण करना होगा और यह सुनिश्चित करना होगा कि लोग शौचालय का इस्तेमाल कर खुले में जाने से परहेज करें।

खुले में शौच मुक्त लक्ष्य के लिए करेंगे प्रयास
इसी क्रम मानव-वन्यजीव संघर्ष की घटनाओं पर जिलाधिकारी शीतल वर्मा ने बुधवार को गंभीरता दिखाते हुए पीलीभीत टाईगर रिजर्व से सटे गांवों को पहले ओडीएफ करने का निर्देश दिया है। जिसमें उन्होंने अधिकारियों को अहसास दिलाया कि इस लक्ष्य को समय से पूर्ण करने के लिए सबको मिलकर प्रयास करना होगा।

हफ्ते में 2 दिन गांवों के लोगों से होगी बात
इस दौरान डीएम ने मुख्य विकास अधिकारी डाॅ दिनेश कुमार सिंह को निर्देश दिया कि जिस तरह वह खुद सुबह गांवों में जाकर फालोअप लेते हैं। उसी तरह अन्य अधिकारी भी संबंधित गांवों में जाकर जायजा लें। वहीं डीएम के निर्देशानुसार दिनेश कुमार सिंह ने जिले के 84 अधिकारियों को मार्निंग फालोअप के लिए लगा दिया है। ये अधिकारी हर सप्ताह बुधवार और शुक्रवार को गांवों में जा कर फालोअप करेंगे। जहां वह लोगों को शौचालय बनाने के लिए प्रेरित भी करेंगे।

अबतक 100 से ज्यादा गांवों में ओडीएफ
इतना ही नहीं यह अधिकारी बेस लाइन गांवों में जाकर यह अभियान चलाएंगे। मुख्य विकास अधिकारी ने बताया कि जिले के 100 से अधिक गांवों को ओडीएफ कर दिया गया है, शेष गांवों को ओडीएफ किए जाने के प्रयास किए जा रहे है।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!