देश का पहला इंजीनियरिंग कॉलेज बना IIT कानपुर, होगी हिंदू धार्मिक ग्रंथों की पढ़ाई

Thursday, January 11, 2018 10:49 AM
देश का पहला इंजीनियरिंग कॉलेज बना IIT कानपुर, होगी हिंदू धार्मिक ग्रंथों की पढ़ाई

कानपुर: औद्योगिक नगरी कानपुर का भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) पहला ऐसा इंजीनियरिंग कॉलेज बन गया है, जो हिन्दू ग्रंथों से संबंधित टेक्स्ट और ऑडियो सेवा देगा। बता दें कि आईआईटी के आधिकारिक पोर्टल पर उपलब्ध लिंक http://www.gitasupersite.iitk.ac.in. पर यह सेवा उपलब्ध है।
PunjabKesari
होगी हिंदू धार्मिक ग्रंथों की पढ़ाई
जानकारी के मुताबिक 9 पवित्र ग्रंथों में श्रीमद्भगवतगीता, रामचरितमानस, ब्रह्मसूत्र, योगसूत्र, श्री राम मंगल दासजी, नारद भक्ति सूत्र शामिल है। इसके साथ ही वाल्मीकि रामायण के सुंदरकांड और बालककांड के संस्कृत अनुवाद को भी यहां अपलोड किया गया है।
PunjabKesari
क्या कहना है डायरेक्टर का?
आईआईटी के डायरेक्टर महेंद्र अग्रवाल और कम्प्यूटर साइंस ऐंड इंजिनियरिंग के प्रोफेसर टी.वी प्रभाकर ने कॉलेज में हिंदू धार्मिक ग्रंथों की पढ़ाई पर विवाद की खबर को खारिज कर दिया। प्रभाकर ने कहा कि सभी अच्छी चीजों की आलोचना होती है। इतने महान और धार्मिक कार्य के लिए धर्मनिरपेक्षता पर सवाल नहीं उठाए जा सकते हैं।



आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें-निःशुल्क रजिस्टर