IIT कानपुर ने तोड़ी अंग्रेजी परंपरा, कुर्ता-पायजामा में स्टूडेंट्स ने ली ड‍िग्री

Friday, June 16, 2017 4:19 PM
IIT कानपुर ने तोड़ी अंग्रेजी परंपरा, कुर्ता-पायजामा में स्टूडेंट्स ने ली ड‍िग्री

कानपुरः IIT कानपुर ने इस बार अपनी 50 साल की परंपरा को तोड़ते हुए दीक्षांत समारोह पर छात्रों के लिए एक ड्रेस कोड़ रखा। इस समारोह में इसबार छात्र-छात्राएं जींस या कैजुअल ड्रेस में नहीं, बल्क‍ि भारतीय ट्रेडिशनल ड्रेस कुर्त्ता-पायजामा में नजर आए। पहले द‍िन 809 छात्र-छात्राओं ने ड‍िग्री ली। बता दें, समारोह 15 और 16 जून को आयोज‍ित क‍िया गया। इसमें कुल 1754 छात्र-छात्राएं शामिल हुए।

परंपरा तोड़ रखा था आर्दश ड्रेस कोड
दरअसल IIT कानपुर के 50वें दीक्षांत समारोह में लड़कों ने सफेद कलर के अलीगढ़ी पायजामा के साथ हलके क्रीम कलर का कुर्ता पहना। गले में हलके पिंक कलर का साफा था। वहीं, लड़कियों ने सफेद कलर का चूड़ीदार पायजामा और हलके क्रीम कलर का कुर्ता पहना था। इनके गले में भी पिंक कलर का एक साफा था। आयोजित समारोह में सिंगल डिग्री लेने वालों में बीटेक, बीएस, एमएससी के छात्र शामिल हुए। इसके साथ ड्यूएल डिग्री लेने वाले बीटेक-एमटेक, बीएस-एमएस, बीटेक-एमएस, बीएस-एमबीबीए के छात्र शामिल थे। टाटा सन्स के चेयरमैन नटराजन चंद्रशेखरन मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद थे।

1754 छात्रों को दी गई डिग्री
इस बार आईआईटी कानपुर के 1754 छात्रों को डिग्री दी गई। दरअसल आईआईटी कानपुर के डिप्टी डायरेक्टर मनीन्द्र अग्रवाल ने कहा था कि इस साल ब्रिटिश सिस्टम के गाउन पहन कर परंपरागत तरीके से डिग्री लेने से अलग किया जाएगा। इसलिए कुर्ता पायजामा का ड्रेस कोड रखा गया। यह छात्रों का प्रपोजल था। इंस्टीट्यूट के सीनेट ने इस प्रस्ताव को स्वीकार किया।

गौरतलब है कि भारत की आजादी से पहले से गाउन पहनकर डिग्री लेने की परंपरा चली आ रही है, लेकिन आईआईटी कानपुर के छात्रों ने इस परंपरा को तोड़कर कुर्ता-पायजामा पहन कर डिग्री ली।

UP NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें-


 



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !