महाशिवरात्रि पर्व पर इलाहाबाद में श्रद्धालुओं ने संगम में लगाई आस्था की डुबकी

Wednesday, February 14, 2018 12:01 PM

इलाहाबाद: उत्तर प्रदेश में इलाहाबाद के तीर्थराज प्रयाग में माघ मेले के अंतिम महाशिवरात्रि स्नान पर गंगा, यमुना और सरस्वती संगम में  5 लाख श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगाई। शीतलहरी के बीच सुबह से सन्यासियों, दिव्यांगों और कल्पवासियों ने ‘हर हर गंगे, ऊं नम: शिवाय, हर हर महादेव शम्भो, काशी विश्वनाथ शम्भो, श्री राम जय राम जय जय राम’ तो कोई राधे कृष्ण जपते हुए संगम में स्नान शुरू कर दिया। श्रद्धालुओं के मेले में आने का सिलसिला जारी है।
PunjabKesari
महाशिवरात्रि स्नान के साथ तीर्थराज प्रयाग में पौषपूर्णिमा से चल रही तपस्या (कल्पवास) की विधिवत पूर्णाहुति हो जाएगी। जप-तप कर रहे संत, महात्मा और कल्पवासी प्रयाग से अपने घरों को रवाना हो जाएंगे। रात बारिश और ओले गिरने से मौसम में आए बदलाव के कारण गंगा किनारे स्नान करने वालों को तीखी हवा भी उनकी आस्था को डिगा न सकी। माघी पूर्णिमा स्नान के बाद मेला करीब 90 फीसदी समाप्त हो गया था।
PunjabKesari
बड़े और छोटे शिविरों को हटाने का कार्यक्रम शुरू कर दिया गया था। गुरुवार तक धार्मिक प्रवचनों से गुलजार रहने वाला मेला क्षेत्र अब वीरान नजर आ रहा है। कुछ महीनों बाद कुंभ की तैयारी से यहां की रौनक लौट आएगी। माघ मेला अधिकारी राजीव राय ने बताया कि मेला के 5 महत्वपूर्ण स्नान समापत हो चुके हैं। यह अन्तिम स्नान होता है। इस स्नान पर 8 से 10 लाख श्रद्धालुओं के स्नान करने की संभावना जताई है।
PunjabKesari
राय ने बताया कि श्रद्धालुओं की सुरक्षा में कोई कमी नहीं रखी गई है। सुरक्षा के जवान मेला क्षेत्र में मुस्तैदी से चक्रमण कर रहे हैं। स्नान घाट पर गोताखोर और स्टीमर पर लगातार सुरक्षाकर्मी घूम रहे हैं। संगम में एक निर्धारित स्थान पर सुरक्षा के लिए बांस बल्ली गाड़ी गई है। स्टीमर पर चक्रमण कर रहे जवान स्नानार्थियों को बल्ली के पार नहीं जाने के लिए लगातार सचेत कर रहे हैं। बल्लियों पर प्लेट टांगी गई है कि यहां पानी गहरा है।



आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें-निःशुल्क रजिस्टर