UP: फर्जी डिग्री के सहारे बने शिक्षक पर मुकदमा दर्ज, 12 नियुक्‍तियां रद्द

Sunday, January 14, 2018 11:02 AM

बहराइच: यूपी के बहराइच में फर्जी डिग्री के सहारे नौकरी हासिल करने वाले शिक्षकों पर कार्रवाई की गई है। बेसिक शिक्षा विभाग में टीईटी का फर्जी अंकपत्र लगाकर नौकरी हासिल करने वाले शिक्षक पर बीएसए की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। वहीं 12 अन्य शिक्षकों के बीएड की मार्कशीट गड़बड़ मिली हैं, जिसके चलते उन्हें नोटिस जारी किया गया है।

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी डॉ. अमरकांत सिंह ने बताया कि वर्ष 2014 में 29334 शिक्षकों की भर्ती की गई थी। इनमें कुछ को जूनियर विद्यालय में सहायक अध्यापक के पद पर तैनात किया गया, जबकि कुछ को प्राथमिक विद्यालय में तैनाती मिली। बीएसए ने बताया कि एटा के राघवेंद्र यादव को विज्ञान वर्ग में सहायक अध्यापक के पद पर तैनाती मिली थी। राघवेंद्र ने चयन के दौरान जो रिकॉर्ड लगाए थे, उसमें शिक्षक पात्रता परीक्षा 2011 का अंकपत्र भी शामिल था।

अंकपत्र में राघवेंद्र को 103 अंक प्राप्त दिखाया गया था, जबकि ऑनलाइन सत्यापन करने पर राघवेंद्र को टीईटी परीक्षा मं 54 अंक प्राप्त होने का खुलासा हुआ। इस मामले में राघवेंद्र को स्पष्टीकरण नोटिस दी गई, लेकिन वह ड्यूटी से फरार हो गया। बीएसए ने बताया कि फर्जीवाड़े के चलते राघवेंद्र के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया गया है।

जिला अधिकारी ने बताया कि 12 अन्य शिक्षक-शिक्षिकाओं की आगरा से जारी अंक तालिका में अनियमितताएं मिली हैं। सभी शिक्षकों को बीएसए ने नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है। साथ ही उनकी सेवाएं रद्द कर दी गई हैं। जिन शिक्षकों को नोटिस जारी किया गया है। इनमें वीर बहादुर, निधि सिंह, अर्चना यादव, रामू यादव, रीना, सरिता, देवेंद्र कुमार का स्थानांतरण पूर्व में ही उनके गृह जनपदों में किया जा चुका है। इस मामले में संबंधित जिलों के बेसिक शिक्षा अधिकारी को भी पत्र भेजे गए हैं।



आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें-निःशुल्क रजिस्टर