मनोज सिन्हा ने दिव्यांग की बेटी का स्कूल में कराया एडमिशन, बताया जिम्मेदार नागरिक का कर्तव्य

Sunday, January 14, 2018 6:24 PM
मनोज सिन्हा ने दिव्यांग की बेटी का स्कूल में कराया एडमिशन, बताया जिम्मेदार नागरिक का कर्तव्य

गाजीपुरः बेटियां घर की रौनक होती हैं। बेटियां अपने इल्म से दो घरों को संभाल कर स्वर्ग की अनुभूति कराती हैं। इसी वाक्य को सच मानते हुए रविवार को रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने एक दिव्यांग मां की बेटी को अपनी बटी मानते हुए उस बच्ची का हाथ पकड़ कर स्कूल ले गए और उसका स्कूल में एडमिशन कराया। इतना नहीं उसका पूरा खर्च भी खुद किया।
PunjabKesari
दरअसल बच्ची की मां रिंकू जन्म से ही दिव्यांग है। शादी के बाद रिंकू के घर एक बच्ची ने जन्म लिया। जिसके बाद पति की रिंकू से अनबन होने लगी। पति ने रिंकू पर चाकूओं से हमला कर दिया। 1 या 2 बार नहीं बल्कि रिंकू पर करीब 17 बार चाकू से वार किया। ताकि रिंकू को मौत के घाट उतार दिया जाए, लेकिन कहते है ना जाको राखे साइयां मार सके ना कोय।
PunjabKesari
इस घटना की जानकारी जब रेल राज्य मंत्री के निजी सचिव सिद्धार्थ राय को हुई तो उन्होंने रिंकू का इलाज कराया और उसके पति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। वक्त के चलते रिंकू की बेटी बड़ी हो गई। अब रिंकू के सामने सबसे बड़ी समस्या थी कि वो अपना पेट पाले या बेटी को पढ़ाए। यह बात जब सिद्धार्थ को पता चला तो उसने यह बात मंत्री के सामने रखी।
PunjabKesari
जिसके बाद मनोज सिन्हा ने इसे एक जरुरी काम समझा और मकर संक्रांति पर जब स्कूल बंद चल रहे है तो पर्सनल रिक्वेस्ट पर स्कूल का कार्यालय खुलवा कर एक जिम्मेदार नागरिक व अभिभावक की तरह बच्ची का हाथ पकड़ कर स्कूल पहुंचे और उसका दाखिला कराया। इस दौरान मंत्री ने इसे एक सामाजिक व एक जिम्मेदार नागरिक का कर्तव्य बतलाया।
PunjabKesari
वहीं स्कूल के डायरेक्टर समीर अहमदी ने बताया कि वो इस बेटी के लिए 12 तक की निशुल्क शिक्षा का पूरा प्रयास करेंगे। वहीं रोते हुए रिंकू ने मनोज सिन्हा का धन्यवाद किया। 



अपना सही जीवनसंगी चुनिए | केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन