RTI गर्ल ऐश्वर्या पाराशर ने CM योगी को लिखा पत्र, उठाई ये मांग

Friday, January 12, 2018 9:24 AM
RTI गर्ल ऐश्वर्या पाराशर ने CM योगी को लिखा पत्र, उठाई ये मांग

लखनऊ: हिन्दू आस्था के जीवित कारकों में गंगा का स्थान सर्वोपरि है। आबादी के हिसाब से देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश से होकर जो नदियां बहती हैं उनमें गंगा के साथ-साथ गोमती भी एक प्रमुख नदी है।

राजधानी लखनऊ के सिटी मोंटेसरी स्कूल की राजाजीपुरम शाखा की कक्षा 11 की जीव विज्ञान की 15 वर्षीय छात्रा और देश भर में आरटीआई गर्ल के नाम से जानी जाने वाली ऐश्वर्या पाराशर ने हिन्दू आस्था का वास्ता देते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर गोमती नदी के उद्गम के आसपास गंगा नदी की एक धार को मिलाने के लिए गंगा-गोमती लिंक परियोजना शुरू करने की मांग उठाई।

बताते चलें कि 8 साल की उम्र से आरटीआई के सफल प्रयोग करने के चलते ही ऐश्वर्या देश भर में आरटीआई गर्ल के नाम से जानी जाती है। देश को सूखे और बाढ़ से निजात दिलाने के लिए नदी जोड़ो योजना के विचार को सरकारी रूप से पहचान देने वाले पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी और इस योजना के लिए केंद्र की वर्तमान नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा 5 लाख करोड़ रुपयों का प्रावधान करने की बात अपने पत्र में कहते हुए ऐश्वर्या ने योगी से गुहार लगाई है कि वे मध्य प्रदेश सरकार की नर्मदा क्षिप्रा सिंहस्थ लिंक परियोजना की तर्ज पर गंगा-गोमती लिंक परियोजना बनाकर गोमती नदी के उद्गम यूपी के माधो टांडा स्थित गोमत ताल के आसपास गंगा नदी की एक धार को गोमती से मिलाने के लिए काम शुरू करें।

छात्रा ने अपने पत्र में लिखा है कि यदि योगी गंगा को गोमती से मिला देते हैं तो गोमती किनारे बसे लखीमपुर खीरी, सीतापुर, हरदोई, लखनऊ, सुल्तानपुर, जौनपुर आदि जिलों के करोड़ों लोग गंगा नदी के दर्शन अपने जिले में ही कर अपने धार्मिक क्रियाकलापों के लिए सुदूर जिलों तक आने-जाने की जद्दोजहत से बच सकेंगे। बायो टैक्नोलॉजी में विशेष रुचि रखने वाली ऐश्वर्या पाराशर ने बताया कि उन्हें विश्वास है कि उसके योगी अंकल उसके प्रपोजल पर कार्रवाई करते हुए केंद्र सरकार से बात करके प्रदेशवासियों को गंगा-गोमती लिंक परियोजना का तोहफा अवश्य देंगे।



अपना सही जीवनसंगी चुनिए | केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन