ये वॉर्डन आंटी मजनूओं की अय्याशी का बन रही मसीहा, इस शर्त पर देती है लड़कियों को कमरा

Monday, May 15, 2017 3:07 PM
ये वॉर्डन आंटी मजनूओं की अय्याशी का बन रही मसीहा, इस शर्त पर देती है लड़कियों को कमरा

मेरठः उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में बेहद शर्मसार कर देने वाला जिस्मफिरोशी का मामला सामने आया है। जहां लड़कों की अय्याशी के लिए एक हॉस्टल की वॉर्डन इन दिनों मजनुओं की मसीहा बन गई हैं। ये वार्डन लड़कियों को कमरा देने के साथ शर्त ये रखती है कि वो लड़कों से बात करें और उन्हें खुश रखें।

जानिए पूरा मामला
दरअसल मरेठ के सिविल लाइन थाना क्षेत्र के एक हॉस्टल में उस समय हंगामा खड़ा हो गया जब हॉस्टल में रहने वाली लड़कियों ने हॉस्टल की वॉर्डन पर गंभीर आरोप लगाए। छात्राओं ने आरोप लगाया कि वॉर्डन की बात ना मानने पर एक छात्रा का सामान हॉस्टल से बाहर फेंक दिया गया और उसकी पिटाई तो की ही लड़की का सामान भी लूट लिया।

लड़कियों को माननी पड़ती है वार्डन की बात
जानकारी के मुताबिक पूर्वी कचहरी मार्ग पर वैश्य अनाथालय ट्रस्ट की जमीन पर इंदिरा गांधी महिला छात्रावास है। हॉस्टल में लगभग 50 युवतियां रहती हैं, जिनमें से ज्यादातर या तो पढ़ाई कर रही हैं और कुछ युवतियां प्राइवेट जॉब करती हैं। संगीता का आरोप है कि हॉस्टल की वॉर्डन मंजू राणा यहां रहने वाली युवतियों पर दबाव बनाती हैं कि वो उसके बताए गए मोबाइल नंबरों पर कॉल करके युवकों से दोस्ती कर लें। इसमें उनका भी फायदा है और युवतियों का भी।

बात ना मानने पर अनर्गल आरोप लगा करती है परेशान
आरोप है कि जिन छात्राओं ने वॉर्डन की बात मानने से इनकार किया, उन्हें वॉर्डन अनर्गल आरोप लगाकर परेशान करने लगी। इसी के चलते हॉस्टल प्रबंधन ने संगीता की साथी अनु चौधरी के कमरा नंबर 34 को ताला लगा दिया। अनु ने अपने कुछ साथियों को बुलाकर ताला खुलवाने का प्रयास किया तो हॉस्टल की वॉर्डन मंजू राणा ने उसे धमकाना शुरू कर दिया। इस बात को लेकर विवाद हुआ तो वॉर्डन ने पुलिस बुला ली।

छात्रा के कमरे में घुसकर की गई पिटाई 
युवतियों का आरोप है कि हॉस्टल की वॉर्डन मंजू राणा, सहायिका माया, हेमलता और हॉस्टल की छात्रा ज्योती ने संगीता के कमरे में घुसकर उसकी पिटाई कर डाली। वहीं मौके पर पहुंची पुलिस के सामने दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर आरोप लगाए। पुलिस दोनों पक्षों को थाने पहुंचाने की बात कहकर वापस लौट गई। बाद में दोनों पक्षों ने थाने पहुंचकर एक-दूसरे के खिलाफ तहरीर देते हुए कार्रवाई की मांग की है।

हॉस्टल मैनेजमेंट का आरोप लड़कियों का है बाहर चक्कर 
वहीं हॉस्टल प्रबंधन का कहना है कि हॉस्टल की निवासी कुछ छात्राओं के पास बाहरी युवकों का आनाजाना है। वहीं ये छात्राएं न तो समय से किराया देती हैं और न ही बिजली का बिल। हॉस्टल प्रबंधन का आरोप है कि जब इन छात्राओं से कमरा खाली करने को कहा गया तो उन्होंने अनर्गल आरोप लगाना शुरू कर दिया और हॉस्टल की वॉर्डन और एक छात्रा की पिटाई कर डाली।



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !