पढ़ने के लिए जान कि बाजी लगाते मासूम, नदीं पार कर जाते हैं स्कूल

punjabkesari.in Monday, Oct 03, 2022 - 01:28 PM (IST)

झांसी: जिले के प्राइमरी प्राथमिक विद्यालयों में पढ़ने के लिए नौनिहालों को हर दिन  अपनी जान को जोखिम में डालनी पड़ती है। पढ़ने के एवज में जान का बड़ा खतरा उठा कर नौनिहाल नदी को पार करने के लिए मजबूर होते हैं। यह कोई फिल्मों में दिखाई जाने वाली कहानी नहीं, बल्कि हकीकत है। सिर पर स्कूली बैग और गले तक नदी का पानी, कुछ इस तरह से नौनिहाल अपने गांव से स्कूल में पढ़ने जाते हैं।

PunjabKesari

झांसी मुख्यालय से 80 किलोमीटर दूर बंगरा ब्लॉक में राजगिरी प्राथमिक विद्यालय में पढ़ने वाले नौनिहालों के लिए पढ़-लिख कर भविष्य बनाने का सपना हर दिन बड़े जोखिम उठाने के बाद पूरा होता है, गांव से विद्यालय की दूरी 3 किलोमीटर है। इस दौरान गांव और विद्यालय के बीच में एक छोटी नदी पड़ती है, जिसको पार करने के लिए न तो कोई पुल है और न ही विद्यालय तक पहुंचने के लिए कोई दूसरा रास्ता, ऐसे में बच्चों को  पढ़ाई करने के लिए नदीं में गर्दन तक पानी के बीच से होते हुए स्कूली बैग को सिर पर रखकर जाना पड़ता है। नदी को पार करने के बाद बच्चे पूरी तरह से भीग जाते हैं, इसके बाद विद्यालय आने से पहले 1 घंटे तक धूप में खड़े रहकर कपड़े भी सुखाने पड़ते हैं।

 

PunjabKesari

स्कूल की अपनी मजबूरीयां 
इस बाबत विद्यालय के प्रधानाचार्य भगवान दास की अपनी मजबूरियां हैं, विद्यालय के प्रधानाचार्य का कहना है कि नदी पार करने के अलावा बच्चों के पास कोई दूसरा रास्ता नहीं है, ऐसे में बच्चे विद्यालय आते तो हैं लेकिन उनकी संख्या अक्सर बहुत कम रहती है। घर से विद्यालय आने के लिए नदी को पार करने के अलावा कोई दूसरा विकल्प ही नहीं है। बच्चों की सुरक्षा को लेकर अभिभावकों की बारी-बारी से हर दिन बच्चो को नदी पार कराने के लिए ड्यूटी भी लगाई जाती है। जब कोई होता हैं तो वो बच्चों को पार करा देता हैं।

 

PunjabKesari

 

स्थानीय निवासी भी परेशान 
जब इस मामले के बारे में स्थानीय लोगों से बाते की गई तो उन्होंने कहा की हम इस समस्या को लेकर कई बार स्थानीय जन प्रतिनिधी से लेकर जिलाधिकारी को अवगत करा चुके हैं, लेकिन हर बार हमें सिर्फ आश्वासन ही मिलता हैं, यह समस्या सिर्फ बच्चों की नहीं हमारी भी हैं, लेकिन हमारी समस्या को कोई सुनता ही नहीं हैं।

PunjabKesari

प्रशासन का अपना दावा 
जब इस मामले को लेकर झांसी के जिलाधिकारी रविंद्र कुमार से मीडिया ने सवाल किया तो उन्होंने कहा कि मेरे संज्ञान में ये मामला अभी आया हैं। मैंने इस बाबत जिले के पी डब्लू डी अधिकारीयों के साथ बैठक कर उनसे इस समस्या का समाधान जल्द से जल्द करने को कहा है। हम इस मामलें को गंभीरता से ले रहे हैं, हमने शासन को इस बाबत पत्र लिखकर अवगत करा दिया हैं और उन से इस काम के लिए फंड देने के लिए कहा है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tamanna Bhardwaj

Related News

Recommended News

static