रामलला का दानपात्र बना कुबेर का खजाना! चढ़ावा इतना कि हर दिन में 2 बार खाली करनी पड़ रही दानपेटी

punjabkesari.in Friday, Feb 02, 2024 - 12:19 PM (IST)

अयोध्या, Ram Mandir Donation: अयोध्या में रामलला दरबार में करोड़ों श्रद्धालु प्रभु चरणों में दिल खोलकर हाजिरी लगा रहे हैं। वहीं श्रद्धालु रामलला दरबार में हाजिरी ही नहीं दिल खोलकर दान भी कर रहे हैं। जिसके चलते रामलला का दानपात्र कुबेर के खजाने से कम नहीं नजर आ रहा। रामलला का दानपात्र हर रोज करोड़ों रुपये से भर रहा है। राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा के हुए 11 दिन हो गए हैं। अभिषेक समारोह के बाद से लगभग 25 लाख भक्त राम जन्मभूमि के दर्शन कर चुके हैं। राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने बताया कि पिछले 10 दिनों में दान पेटियों में लगभग 8 करोड़ जमा हुए हैं, और लगभग 3.50 करोड़ ऑनलाइन प्राप्त हुए हैं। इसमें प्रसाद और दान की कीमतें भी शामिल हैं। 
PunjabKesari
22 जनवरी को प्रभु रामलला की प्राण प्रतिष्ठा हुई। 23 जनवरी से राम मंदिर आम भक्तों के लिए खोला गया। 22 जनवरी को प्रभु रामलला का दर्शन केवल वीआईपी श्रद्धालुओं ने किया था। पीएम नरेंद्र मोदी ने इस दिन भगवान रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम को पूरा किया था। 1 फरवरी तक के दर्शन और दान के आंकड़े सामने आए हैं। वह भक्तों की राम मंदिर के प्रति आकर्षण को दर्शाता है। पिछले 11 दिनों में प्रभु रामलला के दान पात्र में 11 करोड़ का दान आया है। वहीं, इन 11 दिनों में 25 लाख श्रद्धालुओं ने दर्शन किया है।

 

ट्रस्ट के कार्यालय प्रभारी प्रकाश गुप्ता ने बताया कि गर्भगृह, जहां भगवान विराजमान हैं, के सामने दर्शन पथ के पास चार बड़े आकार की दान पेटियां रखी गई हैं, जिनमें श्रद्धालु दान कर रहे हैं। इसके अलावा 10 कम्प्यूटरीकृत काउंटरों पर भी लोग दान कर रहे हैं। सभी दान काउंटरों पर मंदिर ट्रस्ट के कर्मचारी नियुक्त हैं, जो शाम को काउंटर बंद होने के बाद प्राप्त दान राशि का हिसाब ट्रस्ट कार्यालय में जमा करते हैं। 14 कर्मचारियों की एक टीम चार दान पेटियों में आए चढ़ावे की गिनती कर रही है, जिसमें 11 बैंक कर्मचारी और तीन मंदिर ट्रस्ट के कर्मचारी शामिल हैं। गुप्ता ने बताया कि दान राशि जमा करने से लेकर उसकी गिनती तक सब कुछ सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में किया जा रहा। ट्रस्ट के प्रभारी गुप्ता ने बताया, रामलला के दर्शन के लिए प्रतिदिन 2 लाख से अधिक श्रद्धालु राम मंदिर पहुंच रहे हैं। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tamanna Bhardwaj

Recommended News

Related News

static