वाह: हाईस्कूल में UP-TOP में जगह बनाने वाली प्रतिभा ने अब IAS परीक्षा में किया INDIA-TOP

8/4/2020 8:23:28 PM

सुलतानपुर: उत्तर-प्रदेश के सुलतानपुर में एक शिक्षिका की बेटी प्रतिभा वर्मा बचपन से ही अपनी प्रतिभा के लिए चर्चा में रही। हाईस्कूल परीक्षा में उत्तर प्रदेश में तीसरे स्थान पर रही और आज देश की सर्वोच्च परीक्षा भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) परीक्षा में देश की मेरिट में तीसरा स्थान व महिला वर्ग में पहला स्थान मिला तो सुलतानपुर एक बार फिर गौरवान्वित हो उठा है।       

सुलतानपुर शहर से सटे बघराजपुर गांव की निवासी प्रतिभा वर्मा की माता उषा वर्मा जिले के बभंगवां प्राथमिक विद्यालय में शिक्षिका है और पिता सुवंश वर्मा अवकाश प्राप्त प्रधानाचार्य है। प्रतिभा की प्राथमिक शिक्षा सुल्तानपुर शहर में हुई। हाईस्कूल की पढ़ाई प्रतिभा ने 2008 रामराजी सरस्वती बालिका विद्या मंदिर इंटर कॉलेज से की। बोर्ड परीक्षा के परिणाम में जब प्रतिभा वर्मा को उत्तर प्रदेश की मेरिट में तीसरा स्थान मिला तो लोग अचंभित हो उठे। इंटर की पढाई सीबीएसई से करने के लिए शहर के केएनआईसी से की। इसके बाद दिल्ली से इंजीनियरिंग व स्नातक की शिक्षा पूर्ण की। प्रतिमा ने इसके बाद कई अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में भी उल्लेखनीय उपलब्धियां हासिल की है, जिससे जिला गौरवान्वित होता रहा। 

आईएएस का परीक्षाफल घोषित हुआ है, जिसमें प्रतिभा वर्मा का नाम देश की मेरिट में तीसरे स्थान पर है जबकि महिला वर्ग में प्रथम स्थान पर हैं। इस सूचना से पूरा सुल्तानपुर फिर प्रतिभा वर्मा की प्रतिभा से गौरवान्वित को उठा हैं। सिविल सेवा के टॉप 10 कैंडिडेट की सूची प्रथम प्रदीप सिंह, द्वितीय जतिन किशोर व तृतीय स्थान पर प्रतिभा वर्मा हैं। टॉप 50 में 19 लड़कियों ने जगह बनाई हैं।

PunjabKesari
तीसरी रैंक आएगी, इसकी बिल्कुल उम्मीद नहीं थी-प्रतिभा वर्मा
प्रतिभा से जब तीसरी रैंक हासिल करके के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि भी तक विश्वास नहीं हो रहा है कि उन्होंने देश के सबसे कठिन एग्जाम में तीसरी रैंक पाई है। प्रतिभा का कहना है कि मैंने जब यूपीएससी का रिजल्ट चेक किया तो मुझे विश्वास ही नहीं हुआ।

प्रतिभा ने इंडियन रेवन्यू सर्विस को ज्वाइन किया हुआ, लेकिन परीक्षा की तैयारी के लिए उन्होंने छुट्टी ले ली थी। प्रतिभा का कहना है कि पिछले सालों में महिलाओं ने परीक्षा टॉप की है, जैसे टीना डॉबी ने 2016 में पहली रैंक पाई थी। मैंने जो भी पाया उससे मैं खुश हूं, मुझे विश्वास था कि मैं अच्छा करूंगी, लेकिन मैं तीसरी रैंक पाउंगी, इसकी बिल्कुल उम्मीद नहीं थी। प्रतिभा ने फिजिक्स को अपना ऑप्शनल विषय लिया था। उन्होंने बताया कि आईआरएस सर्विस में साथ काम करने वाले एक मित्र ने उन्हें सबसे पहले रिजल्ट के बारे में बताया और उसके बाद उन्होंने वेबसाइट पर रिजल्ट चेक किया।

PunjabKesari

हमेशा से बनना चाहती थी सिविल सर्वेंट 
प्रतिभा ने आईआईटी दिल्ली से 2014 में ग्रेजुएट किया है। उन्होंने 2 साल तक एक प्राइवेट फर्म में एक्सप्रीरियंस के लिए नौकरी की। उन्होंने बताया कि वो हमेशा से ही एक सिविल सर्वेंट बनना चाहती थीं, इसलिए उन्होंने यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी। उन्होंने बताया कि पिछले साल उनकी 489 रैंक आई थी, इसके बाद उन्होंने अपनी कमजोरियों पर मेहनत की। प्रतिभा के पिता सुवंश वर्मा सरकारी इंटरमीडिएट कॉलेज से कुछ ही महीने पहले अंग्रेजी टीचर के पद से रिटायर हुए हैं, वहीं उनकी मां ऊषा वर्मा सरकारी स्कूल सुल्तानपुर में हेड टीचर हैं। प्रतिभा बताती हैं कि उनकी बड़ी बहन प्रियंका डॉक्टर हैं, उनके दो भाई हैं एक प्राइवेट सेक्टर कंपनी में नौकरी करता है और छोटा भाई पढ़ रहा है। 


Ajay kumar

Related News