AIMIM नेता के बिगड़े बोल, कहा- वसीम रिजवी को जूता मारने वाले को मिलेगा 11 लाख रुपए इनाम

punjabkesari.in Sunday, Dec 12, 2021 - 05:13 PM (IST)

मुरादाबाद:ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM)के महानगर अध्यक्ष वकी रशीद ने वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र नारायण त्यागी को लेकर विवादित बयान दिया है।  उन्होंने ऐलान करते हुए कहा कि वसीम रिजवी को जूता मारने वाले को 11 लाख को इनाम दिया जाएगा। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।

AIMIM के महानगर अध्यक्ष वकी रशीद का कहना है कि वसीम रिजवी किसी साजिश के तहत हिंदू-मुस्लिम फसाद कराना चाहते हैं। उन्होंने कहा वसीम रिजवी के खिलाफ कई स्थानों पर विभिन्न आपराधिक मामलों में रिपोर्ट दर्ज हैं।  इससे बचने के लिए ही वसीम रिजवी हिंदुत्ववादी ताकतों के इशारों पर विवादित बयान देते रहे हैं।  उन्होंने कहा कि कुछ समय बाद विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। जनता महंगाई, बेरोजगारी आदि समस्याओं के संकट से झेल रही है। सिर्फ हिंदू-मुस्लिम के बहाने देश की जनता का ध्यान भटकाने की साजिश की जा रही है। उन्होंने कहा जो जो शख्स इस्लाम का नहीं हुआ वह हिंदू धर्म का क्या होगा।

बता दें कि इससे पहले  हैदराबाद से कांग्रेस के पूर्व उम्मीदवार मोहम्मद फिरोज खान ने विवादित बयान दिया है। उन्होंने ऐलान करते हुए कहा कि वसीम रिजवी का मर्डर करने वाले का हमेशा साथ दूंगा। साथ ही कहा उस सर काटने वाले को 50 लाख का इनाम दूगा। फ़िरोज़ खान ने भद्दी भद्दी गालियां देते हुए कहा कि मैं सिविल कोर्ट, हाईकोर्ट, और सुप्रीम कोर्ट के वकील का पूरा खर्च देने को तैयार हूं। 

गौरतलब है कि गाजियाबाद स्थित डासना के देवी मंदिर में यति नरसिंहानंद सरस्वती ने की मौजूदगी में वसीम रिजवी को हिन्दू धर्म अपना लिया है। उनका नया नाम जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी है। । इस पर वसीम रिज़वी ने कहा कि इस्लाम कोई धर्म नहीं है वो एक आतंकी संगठन है जो अरब के रेगिस्तान में पनपा था। उन्होंने कहा कि मुझे इस्लाम से बाहर कर दिया गया है।  इसलिए आज मैं सनातन धर्म अपना रहा हूं। उन्होंने जब मुझको इस्लाम से निकाल ही दिया गया तब यह मेरी मर्जी है कि मैं किस धर्म को स्वीकार करूं। सनातन धर्म दुनिया का सबसे पहला धर्म है और इतनी उसमें अच्छाइयां पाई जाती और इंसानियत पाई जाती है। हम यह समझते हैं किसी और दूसरे धर्म में नहीं है और इस्लाम को हम धर्म समझते ही नहीं है। वहीं इस मौके पर यति नरसिंहानंद सरस्वती ने कहा कि हम वसीम रिजवी के साथ हैं, वसीम रिजवी त्यागी बिरादरी से जुड़ गए है। 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramkesh

Related News

Recommended News

static