ओमीक्रॉन के कारण फरवरी में पीक पर होगी कोरोना की तीसरी लहर , IIT कानपुर के प्रोफेसर का दावा

punjabkesari.in Saturday, Jan 01, 2022 - 01:35 PM (IST)

कानपुरः कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए आईआईटी कानपुर के वरिष्ठ प्रोफेसर मणींद्र अग्रवाल ने महत्वपूर्ण जानकारी दी है। जहां उन्होंने दावा किया है कि ओमिक्रॉन के कारण देश में तीसरी लहर का पीक फरवरी में होगा, लेकिन इस बार मरीजों की संख्या ज्यादा देखने को नहीं मिलेगी और न उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत पड़ेगी।

साथ ही मणींद्र अग्रवाल ने दक्षिण अफ्रीका और भारत के बीच गणितीय मॉडल के आधार पर तुलना करने के हवाले से बताया कि जनसंख्या और प्राकृतिक इम्यूनिटी के मामले में दोनों देशों की स्थिति एक जैसी है। जहां दक्षिण अफ्रीका में 17 दिसंबर को ओमिक्रॉन पीक पर था, अब वहां ओमिक्रॉन के केस तेजी से कमी आ रही है। उन्होंने बताया कि भारत में फरवरी के बाद ओमिक्रॉन की लहर धीरे-धीरे कम होने लगेगी और केस में भी कमी देखने को मिलेगी।

वहीं प्रोफेसर अग्रवाल ने बताया,दक्षिण अफ्रीका में नेचुरल इम्यूनिटी लगभग 80 प्रतिशत तक है, इसी के आधार पर हम कह सकते हैं कि दक्षिण अफ्रीका की तरह ही भारत में भी ओमिक्रॉन के केस अभी बढ़ेंगे, लेकिन ज्यादातर मरीजों को अस्पताल में भर्ती नहीं होना पड़ेगा। इसके साथ ही यूरोप में नेचुरल इम्यूनिटी कम है।इसलिए वहां मरीजों की स्थिति थोड़ी गंभीर दिख रही है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tamanna Bhardwaj

Related News

Recommended News

static