किसानों का संकल्प कृषि कानूनों को वापस कराकर ही लेंगे दम: BKU

punjabkesari.in Friday, Jan 01, 2021 - 05:51 PM (IST)

नोएडा: केंद्र सराकर के नए कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का धरना भीषण ठंड में भी जारी है। चिल्ला बॉर्डर पर धरने पर बैठे भारतीय किसान यूनियन (भानू) के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ तरुण शर्मा ने बताया कि नव वर्ष में सभी किसानों ने संकल्प लिया है कि वे किसान विरोधी कृषि कानूनों को वापस करा कर ही दम लेंगे।

उन्होंने कहा कि किसानों की मांग है कि केंद्र सरकार नए कृषि कानूनों को वापस लेने के साथ-साथ किसान आयोग का गठन करे, साथ ही किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य की लिखित गारंटी दी जाए। उन्होंने बताया कि भी धरना स्थल पर 11 किसान सांकेतिक भूख हड़ताल पर बैठे हैं। उन्होंने कहा सरकार के साथ कई बार बात हुई लेकिन बात नहीं बनी है। उन्होंने कहा कि कई किसान धरना के दौरान शहीद भी हो गये है। जब तक सराकर न्यूनतम समर्थन मूल्य की लिखित गारंटी नहीं देती है तब तक धरना जारी रहेगा।  वहीं, दलित प्रेरणा स्थल पर चल रहा भारतीय किसान यूनियन लोक शक्ति का धरना भी शुक्रवार को जारी रहा।

किसान संगठनों के नेताओं ने कहा कि कृषि सुधार कानूनों की वापसी तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। कड़ाके की ठंड का उन पर कोई असर नहीं है और वे अपनी मांगों के पूरा होने तक धरना प्रदर्शन करने को कृत संकल्प हैं। किसानों के आंदोलन का समर्थन करने के लिये विदेशों से भी कुछ लोग आये हैं। इनमें कई कलाकार हैं। जो वहां किसानों का मनोरंजन कर रहे हैं और उनके हौंसले को बढ़ा रहे हैं। सरकार और किसान संगठनों के बीच चार जनवरी को अगले दौर की बातचीत होने वाली है। सरकार और किसान संगठनों के बीच दो मामलों पर सहमति बनी है, जिनमें बिजली बिल पर सब्सिडी जारी रखना और पराली जलाने वाले किसानों के खिलाफ कारर्वाई नहीं किया जाना प्रमुख है।

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Ramkesh

Related News

Recommended News

static