सम्भल: पूर्व मंत्री अकीलुर्रहमान खां BSP से निष्कासित, पार्टी विरोधी गतिविधियों का आरोप

10/28/2021 3:39:43 PM

सम्भल: उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव में बस कुछ ही महीने ही बचे है ऐसे में सभी राजनीतिक पार्टियां संगठन को मजबूत कर नई ऊर्जा के साथ 2022 विधानसभा चुनाव में उतरने की तैयारी कर रही है।  नेता भी अपने राजनीतिक भविष्य को लेकर पार्टी बदले में जुटे है। इसकी क्रम में बहुजन समाज पार्टी विरोधी गतिविधि में लिप्त नेताओं को बाहर का रास्ता दिखाकर जिताऊ उम्मीदवार को मौका देने की जुगत में लगी हुई। दरअसल, संभल जिले के कद्दावर नेता पूर्व मंत्री  अकीलुर्रहमान खां   को बसपा ने पार्टी विरोधी गतिविधि के आरोप में पार्टी से निष्कासित कर दिया है। 

PunjabKesari

बता दें कि पूर्व मंत्री  अकीलुर्रहमान खां  बहुजन समाज पार्टी में संगठन के कई पदों पर कार्य कर चुके है। वह बहुजन समाज पार्टी की तरफ से राजस्थान और महाराष्ट्र के प्रदेश प्रभारी भी रह चुके है। उन्होंने 1992 में बसपा की सदस्यता लेकर 1993 में मुरादाबाद शहर सीट से   बसपा के टिकट पर चुनाव भी लड़ा था। उन्होंने बसपा पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि मायावती के मंच पर जय सियाराम के नारे लग है  अब पुराने नेताओं की पार्टी में कोई इज्जत नहीं रह गई। उन्होंने कहा कि पार्टी में अब चाटूकारों की ज़रूरत है।

PunjabKesari

 सच्चे सिपाही को बसपा ने निकाला 
पूर्व मंत्री ने कहा कि मैंने विपरीत परिस्थिति में सपा के गढ़ वाले जिले में पार्टी का झंडा बुलंद किया था। खुद विधायक रहा जबकि मेरी पत्नी तरन्नुम अकील सम्भल शहर से नगर पालिका चेयरमैन रही। बसपा ने मुझे निकालकर सच्चे सिपाही को निकाला है। वहीं, पत्नी तरन्नुम अकील ने भी इस पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। और उन्होंने भी त्यागपत्र दे दिया उन्होंने कहा कि जिस बसपा ने तीन दशक से पार्टी को मजबूत करने वाले उनके पति को सम्मान नहीं दिया तो मुझे क्या देगी।

PunjabKesari

 बीएसपी को हराकर हकीकत का दिखा देंगे आईना 
उन्होंने कहा कि दलित अल्पसंख्यक मेरे साथ 2022 का चुनाव लड़कर बीएसपी को हराकर हकीकत का आईना दिखा देंगे । ऐसे में अब लगभग तय हो चुका है कि वह किसी भी दूसरी पार्टी को जल्द ही दामन थाम सकते हैं। हालांकि, उनकी सपा में जाने की ज्यादा संभावना जताई जा रही है। बसपा जिलाध्यक्ष ने बताया कि अनुशासनहीनता व पार्टी विरोधी गतिविधि में लिप्त होने पर उन्हें बसपा सुप्रीमो ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है। वह 1992 में बसपा से जुड़े थे। 1993 में मुरादाबाद नगर से बसपा प्रत्याशी बने, चुनाव हारे। 2002 में फिर बहजोई से लड़े और बसपा को जीत दिलाई। उन्होंने पार्टी से निकाले जाने पर सफाई देते हुए कहा कि जिस ने पार्टी में 29 साल तक सेवा की सेवा की है उसे पार्टी से निकाले जाने पर पार्टी को बड़ा नुकसान होगा। उन्होंने कहा कि अपने समर्थकों के साथ बैठक कर जल्द ही फैसल लेकर आगे की रणनीति तय करूगा। ऐसी आशंका जताई जा रही है वह समाजवादी पार्टी में जल्द ही जाने का फैसला ले सकते है। फिलहाल अभी तक उन्होंने कुछ भी इस बारे में ऐलान नहीं किया है। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramkesh

Related News

Recommended News

static