Ghaziabad: सामूहिक विवाह योजना के तहत 3003 जोड़े परिणय सूत्र के बंधन में बंधे, नवविवाहित जोड़ों को मिला आशीर्वाद

punjabkesari.in Thursday, Nov 24, 2022 - 09:56 PM (IST)

गाजियाबाद: उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले के श्रम विभाग ने कमला नेहरू नगर मैदान में सामुदायिक विवाह समारोह का आयोजन किया जिसमें गाजियाबाद, हापुड़ और बुलंदशहर जिलों के हिंदू, मुस्लिम, बौद्ध और सिख समुदाय के 3003 जोड़े अपने-अपने धर्म के अनुसार परिणय सूत्र में बंधे।
PunjabKesari
दुल्हन के पिता के खाते में 65 हजार रुपये अंतरित
जिलाधिकारी आर के सिंह ने बताया कि प्रत्येक युगल को शादी का जोड़ा खरीदने के लिए 10,000 रुपये अग्रिम रूप से दिए गए थे। उनके अनुसार श्रम विभाग की ओर से दुल्हन के पिता के खाते में 65 हजार रुपये अंतरित किए गये। सिंह ने बताया कि इस आयोजन पर श्रम विभाग द्वारा कुल 22.50 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम में स्थानीय सांसद वी के सिंह और उत्तर प्रदेश सरकार के श्रम और रोजगार मंत्री अनिल राजभर उपस्थित थे एवं उन्होंने नवविवाहित जोड़ों को आशीर्वाद दिया।
PunjabKesari
कन्यादान सबसे बड़ा एवं पवित्र दान: राजभर
इस अवसर पर मंत्री अनिल राजभर ने कहा कि गरीब कल्याण के प्रति केंद्र एवं प्रदेश सरकार के सहयोग से सामूहिक विवाह समारोह का आयोजन गरीब तबके के लोगों के लिए किया जाता है, जिनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है। उन्होंने कहा कि गांव की बेटी सबकी बेटी होती है, वह न किसी जाति विशेष और न किसी मजहब की होती है अपितु वह तो इन सबसे ऊपर होती है। आज का भव्य सामूहिक विवाह आयोजन जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह एवं मुख्य विकास अधिकारी विक्रमादित्य सिंह मलिक द्वारा एक सराहनीय प्रयास है। उन्होंने यह भी कहा कि इस संसार में कन्यादान सबसे बड़ा एवं पवित्र दान माना गया है। जिसने गरीब की पीड़ा को सही से देखा है वही उनके सुख-दुख में उनके साथ रह पाएगा। इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के मार्गदर्शन में प्रदेश सरकार द्वारा यह बीड़ा उठाया गया है।
PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Mamta Yadav

Related News

Recommended News

static