शिक्षक ने प्रिंसिपल पर लगाए गंभीर आरोप, कहा- 1 लाख 20 हजार नहीं दी रिश्वत तो 7 माह का रुका वेतन

10/28/2021 12:40:01 PM

अम्बेडकरनगर:  उत्तर प्रदेश की योगी सरकार जीरो टॉलरेंस अपना कर भ्रष्टाचार अधिकारियों पर लगाम लगाने की बात कर रही है। उसके बावजूद भी घूसखोर अधिकारी सुधरने का नाम नहीं ले रहे और सरकार की मंशा पर पानी  फेरने में जुटे है। ऐसा ही ताजा मामला अम्बेडकरनगर से सामने आया है। जहां पर माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड से चयनित शिक्षक से पद भार ग्रहण करने से पहले एक लाख 20 हजार रुपए की डिमांड की गई। शिक्षक ने रिश्वत देने से इनकार कर दिया। बाद में पीड़ित ने जिले के उच्य अधिकारीयों से शिकायत की तो उसे किसी तरह ज्वाइन करा दी गई। पीड़ित का आरोप है कि 7 महीने ज्वाइन के हो जाने के बाद भी उसे मात्र एक माह का बेतन दिया गया है। उस में से भी रिश्वत मांगी जा रही है। पीड़ित ने सोशल मीडिया पर अपना एक वीडियो जारी किया जो तेजी से वायरल हो रहा है।

PunjabKesari

बता दें कि मामला अम्बेडकरनगर जिले के रामनगर ब्लॉक के एसएन इंटर कॉलेज इंदईपुर का है। यहां पर माध्यमिक  शिक्षा सेवा चयन बोर्ड से चयनित शिक्षक से ज्वाइनिंग के नाम पर एक लाख रुपये की घूस मांगी गई। पीड़ित का आरोप है कि इसकी शिकायत शिक्षा विभाग के अधिकारियों से की इसके बावजूद भी प्रिंसिपल, प्रबंधक लगाता शिक्षक से रिश्वत मांग रहे है। पीड़ित ने बताया कि जिला विद्यालय निरीक्षक के बाबू भी हस्ताक्षर के लिए घूस मांग रहे हैं। पीड़ित कौशलेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि जहां पर जहां-जहां पर उसने शिकायत की वहां पर उसे पैसों की डिमांड की गई। पीड़ित शिक्षक ने प्रिंसिपल से की गई व्हाट्सएप चैटिंग को भी सोशल मीडिया पर पोस्ट किया है। पीड़ित ने सीएम योगी से और जिला अधिकारी से न्याय की गुहार लगाई है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramkesh

Related News

Recommended News

static