सरकारी राशन पर कोटेदार का डाका, SDM ने छापेमारी कर 40 बोरी चावल पकड़ा

punjabkesari.in Saturday, Jul 17, 2021 - 12:07 PM (IST)

फर्रुखाबाद: उत्तर प्रदेश सरकार भले ही कोरोना से बिगड़े मजदूरों की हालत को सुधारने के लिए फ्री राशन दे रही है।  परंतु कुछ कोटेदार सरकार के मंसूबों पर पानी फेरने में लगे है। ऐसा ही ताजा मामला फर्रुखाबाद से सामने आया है। जहां पर कोटेदार के द्वारा सरकारी राशन की कालाबाजारी की जा रही थी। मामले की शिकायत पर एसडीएम व क्षेत्रीय खाद्य अधिकारी ने पहुंचकर जांच की और  आरोपी कोटेदार को पकड़ लिया गया।  सरकारी राशन दूसरे कोटेदार के सुपुर्द कर दिया गया। कालाबाजारी करने वाले कोटेदार के खिलाफ कार्रवाई के लिए एसडीएम को रिपोर्ट सौंपी गई है।

बता दें कि शमसाबाद क्षेत्र के गांव झौआ निवासी कोटेदार रत्नेश यादव की दुकान से कार्डधारकों के लिए आया सरकारी चावल चिलसरा निवासी गल्ला व्यापारी के पास पहुंचा दिया गया। इसका पता चलने पर ग्राम प्रधान देवेंद्र यादव के भाई दीवान सिंह ने चिलसरा चौकी पुलिस को सूचना दी। इस पर चौकी प्रभारी जुगुल किशोर प्रधान के साथ चिलसरा पहुंचे। पुलिस ने सरकारी राशन को  ट्रैक्टर से उतरते हुए चिलसरा में गल्ला व्यापारी की गोदाम से पकड़ लिया। पुलिस ने गल्ला व्यापारी की दुकान में ताला डालकर अधिकारियों को जानकारी दी।  जांच करने पहुंचे पूर्ति निरीक्षक ने दुकान से 40 बोरी चावल बरामद किया। व्यापारी ने कहा कि कोटेदार का ट्रैक्टर खराब हो गया था, इसलिए कुछ बोरी गोदाम में उतार कर रख गए थे। पूर्ति निरीक्षक ने प्रधान व दुकानदार के बयान दर्ज किए। क्षेत्रीय खाद्य अधिकारी शरद दुबे ने बताया कि प्राथमिक जांच में मामला राशन की कालाबाजारी का लग रहा है। मौके पर बरामद हुआ 40 बोरी चावल गांव दुबरी के कोटेदार प्रमोद कुमार के सुपुर्द कर दिया गया है। उन्होंने झौआ के कोटेदार व व्यापारी के बयान सहित अपनी जांच रिपोर्ट एसडीएम को सौंपी है।

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramkesh

Related News

Recommended News

static