लखीमपुर हिंसा: केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने लगाए साजिश के आरोप, कहा- घायलों से जबरन बुलवाया गया मेरा नाम

punjabkesari.in Monday, Oct 04, 2021 - 01:41 PM (IST)

लखीमपुर खीरी: उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी हिंसा मामले को लेकर निशाने पर आए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा ने घटना में अपने खिलाफ साजिश रचे जाने का आरोप लगाया है। मिश्रा ने सोमवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि उन्हें लगता है कि इस मामले में उनके खिलाफ साजिश की गई है। उन्होंने कहा, “प्रदर्शन कर रहे किसानों के बीच छुपे कुछ अराजक तत्वों ने वारदात के दौरान घायल हुए लोगों को पीट-पीटकर उनसे कहा कि तुम मंत्री का नाम लो।” मिश्रा ने यह भी कहा, “मेरे बेटे पर भी आरोप लगाने का प्रयास किया गया है। जिस तरह गाड़ी से खींच-खींच कर हमारे कार्यकर्ताओं की हत्या की गई, यह हो सकता है कि मेरे बेटे की हत्या की योजना रही हो।”

 उन्होंने दावा किया कि प्रदर्शन के दौरान भीड़ में बहराइच, पीलीभीत तथा कुछ अन्य जिलों के लोगों के भी शामिल होने की बात सामने आ रही है। ऐसा लगता है कि पहले से ही कोई साजिश रची गई थी। मिश्रा ने कहा, “मेरी प्रशासन और मुख्यमंत्री जी से मांग है कि हमारे जो कार्यकर्ता मारे गए हैं, उनके परिजन को 50-50 लाख रुपए का मुआवजा दिया जाए और घटना की चाहे न्यायिक जांच, सीबीआई जांच या किसी भी तरह की जांच कराकर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो।” केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने एक सवाल पर कहा कि उन्हें यह नहीं मालूम कि रविवार को हुई वारदात में किसानों की मौत किन परिस्थितियों में हुई। अपने बेटे के खिलाफ मुकदमा दर्ज किए जाने से संबंधित सवाल पर मिश्रा ने कहा, “इस एफआईआर का कोई औचित्य नहीं है और अगर मुकदमा दर्ज किया गया है तो यह गलत तथ्यों पर आधारित होगा। मुझे शासन पर पूरा विश्वास है। जब जांच में सुबूत सामने आएंगे तो स्थिति अपने आप साफ हो जाएगी।”

सरकार से अपनी बर्खास्तगी की भारतीय किसान यूनियन नेता राकेश टिकैत की मांग के बारे में पूछे जाने पर मिश्रा ने कहा, “राकेश टिकैत लगातार इस देश में अस्थिरता फैलाने का काम कर रहे हैं। वह ऐसी हर घटना पर राजनीति करते हैं। ऐसे में उन्हीं पर मुकदमा दर्ज होना चाहिए।” गौरतलब है कि रविवार को उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य द्वारा केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के पैतृक गांव में आयोजित किए जा रहे एक कार्यक्रम में शिरकत करने के विरोध को लेकर भड़की हिंसा में चार किसानों समेत 9 लोगों की मौत हो गई। आरोप है कि मिश्रा के बेटे आशीष ने किसानों पर गाड़ी चढ़ा दी जिससे उनकी मौत हुई। इस मामले में आशीष समेत कई लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Umakant yadav

Related News

Recommended News

static