अनूठी पहल: ‘वार्षिक खेल सप्ताह समारोह'' में गांव के बच्चे सीख रहे खेल को जीवन का हिस्सा बनाना

punjabkesari.in Thursday, Apr 07, 2022 - 03:05 PM (IST)

मुजफ्फरनगर: बच्चों में खेल को जीवन का अभिन्न अंग बनाने के लिये प्रेरित करने के मकसद से उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर जिले के आदर्श खेल गांव बहादरपुर खेड़ी विरान में ‘वार्षिक खेल सप्ताह समारोह' आयोजित करने की अनूठी पहल की गयी है।       

खेलों को स्कूली शिक्षा में बढ़ावा देने के लिये कार्यरत गाजियाबाद के संस्थान आईएमटी के ‘स्पोट्र्स ए वे ऑफ लाइफ' कार्यक्रम के तहत आदर्श खेल गांव का तीसरा वार्षिक खेल सप्ताह बुधवार को बहादरपुर खेड़ी विरान में आयोजित किया गया। मुजफ्फरनगर के मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव और आईएमटी गाजियाबाद के ‘खेल शोध केन्द्र' के प्रमुख डा कनिष्क पाण्डेय ने खेल सप्ताह का उद्घाटन किया। डा पाण्डेय ने कहा कि तीन साल पहले ग्रामीण अंचल से शुरू किया गया यह अभियान अब अपना प्रभाव दिखाने लगा है। उन्होंने कहा कि आदर्श खेल गांव के बच्चे अब जिला तथा राज्य स्तर की खेल प्रतियोगिताओं में अपनी खेल प्रतिभा दिखाने लगे हैं।       

इस मौके पर वार्षिक खेल समारोह में गांव के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी की अगुवाई में प्रतिभागियों ने मशाल को लेकर खेल मैदान में रेस ट्रैक के चारों ओर मार्च पास्ट किया। इसके बाद समारोह में 50 मीटर, 100 मीटर रेस एवं अन्य प्रतिस्पर्धाओं का आयोजन किया गया। गांव के बच्चों ने 11 अप्रैल तक चलने वाले वार्षिक खेल समारोह में बढ़चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव ने गांव के बच्चों से खेल को जीवन का हिस्सा बनाकर शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ने का आह्वान किया। उन्होंने बच्चों को भरोसा दिलाया कि अच्छा खेलने पर उन्हें जिला स्तर पर खेल प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेने का मौका दिया जायेगा।       

इस दौरान डा पाण्डेय ने खेल और पढ़ाई साथ-साथ किये जाने का महत्व उजागर करते हुए कहा कि शिक्षा तभी पूर्ण होती है जब वह खेल के साथ हो, अन्यथा वह बोझिल हो जाती है। उन्होंने कहा कि खेल को पढ़ाई में बाधक के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए। उन्होंने बताया कि खेल का बुनियादी ढांचा आदर्श खेल गांव में विकसित किया जा चुका है। डा पाण्डेय ने भरोसा जताया कि वह दिन दूर नहीं जब इस गांव में आस-पड़ोस के बच्चे खेलने के लिए रोज आयेंगे। इस अवसर पर आईएमटी गाजियाबाद के संरक्षक डा एस. सी. कुलश्रेष्ठ, बहादरपुर गांव के प्रधान भगत और खेडी विरान गांव के प्रधान रामेश्वर सहित आसपास के सैकड़ो ग्रामीण उपस्थित थे।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Mamta Yadav

Related News

Recommended News

static