लखीमपुर खीरी हिंसा का बहराइच में कोई प्रभाव नहीं: एडीजी

punjabkesari.in Tuesday, Oct 12, 2021 - 08:05 PM (IST)

बहराइच: लखीमपुर हिंसा में तीन अक्टूबर को चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत के बाद बहराइच जिले में पुलिस प्रशासन विशेष सतर्कता बरत रहा है और उच्‍चाधिकारी भी यहां पर लगातार सक्रियता बनाए हुए हैं। गोरखपुर जोन के अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजी) अखिल कुमार ने मंगलवार को यहां गुरुद्वारा प्रबंध समिति के अध्यक्ष और अन्य प्रमुख लोगों से मुलाकात की और दावा किया कि "लखीमपुर की दुर्भाग्यपूर्ण घटना का कोई भी प्रभाव बहराइच में नहीं है, यहां के सिख समाज सहित सभी वर्ग प्रशासन के साथ खड़े हैं।" लखीमपुर हिंसा में मारे गये लोगों में सिख समाज से आने वाले दो किसान बहराइच जिले के रहने वाले थे। एडीजी अखिल कुमार मंगलवार को बहराइच के मुख्य गुरुद्वारे में मत्था टेकने पहुंचे और वह गुरुद्वारा प्रबंध समिति व सिख समाज के लोगों से मिलने के बाद पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। लखीमपुर जा रहे बहराइच के कुछ लोगों को ‘हाउस अरेस्ट' किए जाने के संबंध में पूछे गये एक सवाल के जवाब में एडीजी ने कहा, ''शासन खुद ही सब कुछ त्वरित ढंग से न्याय की दिशा में काम कर रहा है। जब भी ऐसी घटनाएं होती हैं तो कुछ अराजक तत्व मौके का फायदा उठाकर कानून व्यवस्था को खराब कर सकते हैं। इसके लिए हमें एहतियातन आवश्यक कदम उठाने ही पड़ते हैं।'' 

एडीजी ने कहा कि प्रदेश सरकार घटना को लेकर पूरी तरह से गंभीर है इसलिए सभी वर्गों को आश्वस्त रहने की जरूरत है। उन्होंने कहा, "पूरे जोन में त्योहारों को लेकर सजगता व सतर्कता बरती जा रही है। बहराइच में सेक्टर प्रणाली लागू करके सुरक्षाबलों की तैनाती की गयी है। हम सभी वर्गों से लगातार संपर्क बनाए हुए हैं। आज गुरुद्वारे में पहुंचकर सिख भाइयों से सौहार्दपूर्ण वातावरण में विचारों का आदान-प्रदान हुआ है।" गौरतलब है कि लखीमपुर हिंसा में मारे गये बहराइच के दो सिख किसानों के घरों पर लगातार किसान संगठनों व राजनीतिक दलों का आना जाना लगा हुआ है। ऑ

भाजपा ने अल्पसंख्यक आयोग के प्रतिनिधिमंडल को भेजकर अपनी संवेदना जताई है। किसान नेता राकेश टिकैत भी यहां आ चुके हैं। कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी, सपा प्रमुख अखिलेश यादव, बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्र, आम आदमी पार्टी सांसद संजय सिंह के साथ पंजाब के तमाम नेताओं ने पीड़ित परिवारों से मिलकर संवेदना प्रकट की है। सोमवार को बहराइच के जिलाधिकारी दिनेश चन्द्र सिंह ने मुख्य गुरुद्वारे में पहुंचकर दरबार साहिब के समक्ष मत्था टेका था व गुरुमुखी भाषा में सिखों को एक पत्र भी लिखा था। मंगलवार को एडीजी से मुलाकात के समय गुरुद्वारा प्रबंध समिति के अध्यक्ष मनदीप सिंह वालिया, मुख्य ग्रंथी ज्ञानी विक्रम सिंह, महामंत्री भूपेंद्र सिंह सहित तमाम सिख संगत मौजूद थी। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramkesh

Related News

Recommended News

static