शिवपाल के भाजपा में आने की अटकलों पर बोले उपाध्याय, ‘BJP को नहीं है पार्टनर की जरूरत’

punjabkesari.in Sunday, Apr 03, 2022 - 07:26 PM (IST)

इटावा: समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव से दूरी और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव की नजदीकियों की अटकलों के बीच प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री योगेंद्र उपाध्याय ने रविवार को तंज कसा कि उनकी पार्टी को अब किसी पाटर्नर की जरूरत नहीं है।       

उपाध्याय ने यहां पत्रकारों से कहा कि भाजपा को अब किसी भी पाटर्नर की जरूरत नही है क्योंकि उत्तर प्रदेश की सरकार ना केवल पूर्ण बहुमत में हैं बल्कि दो तिहाई बहुमत भी उसके पास है। अगर कोई भाजपा का साथ देना चाहता है तो आकर दे हालांकि इस संबंध में पार्टी आलाकमान को निर्णय लेना है। गौरतलब है कि इससे पहले उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने शिवपाल यादव के बारे में पूछे गये एक प्रश्न के जवाब में कहा था कि भाजपा के पास अब कोई बैकेंसी नहीं है।      

उन्होंने कहा कि योगी सरकार के प्रथम कार्यकाल में प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था पटरी पर आई और अब दूसरे कार्यकाल में शिक्षा व्यवस्था को गति मिलेगी । शैक्षिक वातावरण में सुधार होगा और शिक्षक-छात्र हित में नीतिगत निर्णय लिए जाएंगे। शैक्षिक वातावरण कैसे बने, इस दिशा में 100 दिन की नीतिगत योजना तैयार कर शीघ्र मुख्यमंत्री को सौंपी जाएगी। पेपर लीक मामले में पूछे गये एक सवाल पर उन्होने कहा कि इस पर कड़ाई बरतेंगे, आरोपितों को बख्शेंगे नहीं। पहले पेपर लीक के आरोपितों को राजनीतिक संरक्षण प्राप्त होता था, पेपर बाजार में बिकते थे लेकिन अब आरोपित संरक्षित नहीं, दंडित हो रहे हैं।       

उपाध्याय ने बताया कि योगी सरकार ने यूपीजेईई बीएड की रजिस्ट्रेशन फीस 33 प्रतिशत कम करके छात्रों को बड़ी राहत दी है। छात्रों के हित में बीएड प्रवेश परीक्षा शुल्क कम करने का फैसला लिया गया है। यूपीजेईई बीएड का नोटिफिकेशन 15 अप्रैल को जारी किया जाएगा। प्रवेश परीक्षा जुलाई के पहले सप्ताह में आयोजित किया जा सकता है। परिणाम पांच अगस्त को घोषित किए जा सकते हैं जबकि काउंसलिंग 10 से 25 अगस्त के बीच होगी। सामान्य श्रेणी, अन्य पिछड़ा वर्ग और यूपी के बाहर के उम्मीदवारों को बीएड आवेदन के लिए 1500 रुपये के बजाय अब 1000 रुपये का भुगतान करना होगा। विलंब शुल्क 1600 रुपये है, जो पहले 2500 रुपये थी वहीं अनुसूचित जाति के उम्मीदवारों के लिए आवेदन शुल्क पहले के 750 रुपये से घटाकर 500 रुपये और विलंब शुल्क के साथ पहले के 1250 रुपये से 800 रुपये कर दी गई है। इसके अलावा सभी बीएड योग्य उम्मीदवारों को सरकार द्वारा पहले लिए गए 1000 रुपये के बजाय काउंसलिंग शुल्क के रूप में 650 रुपये का भुगतान करना होगा।       

उच्च शिक्षा मंत्री उपाध्याय ने छात्र संघ चुनाव के संबंध में कहा कि भाजपा लोकतांत्रिक परंपराओं और लोकतंत्र को सुद्दढ़ बनाए रखने के पक्ष में सदैव रही है। स्वस्थ राजनीति के लिए छात्र संघ चुनाव कराए जाने चाहिए। हालांकि अभी पूर्व की ही स्थिति रहेगी। इस संबंध में कुलपतियों के साथ बैठक कर विमर्श करने के बाद ही निर्णय लिया जाएगा।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Mamta Yadav

Related News

Recommended News

static