PM ने की ‘मन की बात’ कहा- काशी में है संकट से जूझने की शक्ति

punjabkesari.in Wednesday, Mar 25, 2020 - 07:35 PM (IST)

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वाराणसी के लोगों के साथ कोरोना वायरस के मुद्दे पर संवाद किया। उन्होंने इस मौके पर लोगों से बातचीत की। वाराणसी के लोगों के साथ कोरोना वायरस पर की जाने वाली यह बातचीत राष्ट्रीय प्रसारक दूरदर्शन और नमो ऐप पर लाइव प्रसारित हुई।बता दें कि PM मोदी ने मंगलवार 24 मार्च को देश को संबोधित करते हुए पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा की थी।

गृहणी अंकिता खत्री का वाक्य,जो रचता है, वो बचता है
इस बातचीत के दौरान काशी की गृहणी अंकिता खत्री का वाक्य,जो रचता है, वो बचता है PM को बहुत पसंद आया। उन्होंने बच्चों की देखभाल कैसे करें के सवाल के जवाब में कहा कि आपदा को अवसर में बदलना ही मानव जीवन की विशेषता है। उन्होंने कहा कि बच्चे भी इस आपदा से बेहतर तरीके से निपट रहे हैं। उन्होंने बताया कि सोशल मीडिया पर ऐसे वीडियो भी देखे हैं। उन्होंने जल्द ही इन वीडियोज को कंपाइल कर सोशल मीडिया पर शेयर करने की बात भी कही।

PM मोदी ने कहा कोरोना के खिलाफ कोई भी दवा, वैक्सीन पूरी दुनिया में नहीं
कोरोना की दवाइयों को लेकर फैली गलतफहमी पर PM मोदी ने कहा कि कोरोना के संक्रमण का इलाज अपने स्तर पर नहीं करें। ध्यान रखें कि अभी तक कोरोना के खिलाफ कोई भी दवा, कोई भी वैक्सीन पूरी दुनिया में नहीं बनी है। हमारे और दूसरे देशों में वैज्ञानिक इसपर काम कर रहे हैं लेकिन मैं आपसे कहूंगा कि आपको कोई भी दवा सुझाए तो भी डॉक्टर से बात करके ही कोई दवा लें।

PM मोदी ने कहा गरीब परिवारों की मदद करने का प्रण लें
देश में मजदूरों के कई जगह फंस जाने और गरीबों की रोजी-रोटी को लेकर लिए किए गए एक सवाल के जवाब में पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना का जवाब करुणा से दिया जाना चाहिए।  हम जरूरतमंदों के प्रति करुणा दिखाने का एक कदम उठा सकते हैं।  उन्होंने इस समय में डॉक्टरों और नर्सों को ईश्वर का रूप बताया। उन्होंने कहा,आज से नवरात्र शुरू हुए हैं।  देश में जिनके पास शक्ति हो, अगले 21 दिन तक प्रतिदिन 9 गरीब परिवारों की मदद करने का प्रण लें।  उन्होंने कहा कि अगर हम इतना कर लें तो इससे बड़ी मां की सेवा क्या हो सकती है! उन्होंने लोगों से पशुओं का भी ध्यान रखने को कहा।

गलतफहमी छोड़ सच्चाई को स्वीकारेंः पीएम मोदी
वाराणसी से पूछे एक प्रश्न का जवाब देते हुए पीएम मोदी ने कहा कि कई लोगों को कोरोना को लेकर गलतफहमी है। उन्होंने कहा कि कई बार अहम बातें जो प्रामाणिक होती हैं, उस पर कुछ लोगों का ध्यान ही नहीं जाता है। उन्होंने ऐसे लोगों से आग्रह किया कि जितनी जल्दी हो सके गलतफहमी छोड़ सच्चाई को स्वीकारें। उन्होंने बताया कि यह बीमारी किसी से भेदभाव नहीं करता।

Whatsapp से ली जा सकती है कोविड-19 के बारे में जानकारी
उन्होंने कहा कि यह वायरस किसी बहुत व्यायाम करने वाले व्यक्ति को भी संक्रमित कर सकता है।  उन्होंंने सिगरेट और गुटखे के विज्ञापनों का जिक्र कर पीएम मोदी ने कहा कि ऐसे लोग होते हैं जिन पर चेतावनियों का असर नहीं पड़ता।  इसके साथ ही पीएम ने सोशल डिस्टेंसिंग का महत्व बताते हुए, इसका पालन करने को कहा उन्होंने यह भी बताया कि पूरी दुनिया में 1 लाख से ज्यादा लोग सही हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि सरकार ने Whatsapp के साथ मिलकर एक हेल्पडेस्क भी बनाई है। जिसके जरिए आप 9013151515 पर वॉट्सऐप कर आप इस सेवा से जुड़ सकते हैं और जानकारियां पा सकते हैं।

संकट की इस घड़ी में काशी सबका मार्गदर्शन कर सकती है
काशी का महात्म्य का जिक्र कर PM ने कहा कि संकट की इस घड़ी में काशी सबका मार्गदर्शन कर सकती है।PM कहा कि काशी देश को सहयोग, शांति, सहनशीलता, साधना, सेवा और समाधान सिखा सकती है।उन्होंने कहा कि काशी का मतलब ही शिव यानी कल्याण है।

वाराणसी में अब तक सामने आया है कोरोना वायरस का सिर्फ 1 मामला
गौरतलब है कि वाराणसी में अब तक सिर्फ एक व्यक्ति को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है। हालांकि वहां पर 23 मार्च से ही पूरी तरह से कर्फ्यू लागू है। वाराणसी की अन्य जिलों से लगने वाली सीमाओं को भी 25 मार्च को बंद कर दिया गया था। जिसके बाद PM ने भी पूरे देश में 21 दिनों के संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा कर दी। वहीं कुछ राज्यो ने पूर्णरूप से कर्फ्यू लागू कर दिया है। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Ajay kumar

Related News

Recommended News

static