Prayagraj News: बसंत पंचमी पर 43 लाख श्रद्धालुओं ने संगम में लगाई पुण्य की डुबकी, बारिश और ठंड पर हावी रही आस्था

punjabkesari.in Wednesday, Feb 14, 2024 - 11:54 PM (IST)

Prayagraj News: माघ मेला के चौथे स्नान पर्व बसंत पंचमी पर करीब 43 लाख श्रद्धालुओं ने गंगा, यमुना एवं अदृश्य सरस्वती के संगम तट तथा गंगा के तट पर बनाये गये विभिन्न घाटों पर आस्था की डुबकी लगाई। देर शाम तक मेला क्षेत्र में स्नानर्थियों की भारी भीड़ विभिन्न घाटों पर रही। एक दिन पहले से ही बूंदाबांदी और बारिश के साथ ठंड भी बढ़ गई, लेकिन श्रद्धालुओं की आस्था डगमगा नहीं सकी। मेले में सुरक्षा व्यवस्था का व्यापक बंदोबस्त किया गया है।
PunjabKesari
तड़के से विभिन्न घाटों पर स्नानर्थियों की भीड़ पहुंची
मंगलवार की रात्रि से ही पंचमी तिथि लग जाने के कारण श्रद्धालु संगम में डुबकी लगाने लगे थे। तड़के से विभिन्न घाटों पर स्नानर्थियों की भीड़ पहुंच गई। ग्रामीण क्षेत्र से समूह में लोग मेला क्षेत्र में पहुंचे थे। करीब पांच लाख संत-महात्मा, कल्पवासी और धार्मिक संस्थाओं के लोगों ने भी संगम में स्नान किया। श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो, इसके लिए सुरक्षा के भी सख्त इतजांम किए गए थे। माघ मेला क्षेत्र में साफ-सफाई की विशेष व्यवस्था की गई थी। स्वजनों से बिछड़ने वाले लोगों के लिए खोया-पाया केन्द्र से लगातार एनाउंस कर उनके स्वजनों से उन्हें मिलाया गया। हर हर महादेव और जय मां गंगे के उद्घोष से मेला क्षेत्र गुंजायमान रहा।
PunjabKesari
श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए जल पुलिस और गोताखोर भी घाटों पर तैनात रहे
बता दें कि स्नान के लिए कुल 12 घाट बनाए गए। घाटों पर पुआल और कांसे को भी नए सिरे से बिछाया गया। जहां कीचड़ था वहां रेत डाली गई। संगम पर जलस्तर कम होने की वजह से पोकलैंड मशीन लगाई गई। मशीन का इस्तेमाल रामघाट पर भी हुआ। उधर, पुलिस मित्र और पीआरडी के जवानों को भी मेला क्षेत्र में तैनात किया गया है। सभी घाट पर महिलाओं के लिए पर्याप्त संख्या में चेजिंग रूम भी बनाए गए हैं। स्नान करने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए जल पुलिस और गोताखोर भी घाटों पर तैनात रहे।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

Mamta Yadav

Related News

static