अमित शाह के नाम पर मंत्री, एमएलसी बनवाने का झांसा देकर धन उगाही करने वाले चार गिरफ्तार

7/22/2021 10:58:20 AM

लखनऊ, 21 जुलाई (भाषा) लखनऊ आयुक्तालय पुलिस और अपराध शाखा की साझा टीम ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के नाम पर दर्जा प्राप्त मंत्री और विधान परिषद सदस्य बनवाने तथा विधानसभा टिकट दिलवाने का झांसा देकर अवैध वसूली करने वाले गिरोह के चार जालसाजों को बुधवार को गिरफ्तार किया।

लखनऊ पुलिस आयुक्तालय की ओर से बुधवार को जारी बयान के अनुसार हजरतगंज कोतवाली और अपराध शाखा की संयुक्त टीम ने आज उत्तराखंड के उधमसिंह नगर जिले के शमीम अहमद एवं हसनैन अली, बलिया जिले के हिमांशु सिंह और बरेली जिले के जाने आलम को आज सुबह यहां गिरफ्तार किया। दो आरोपी शाहिद और बबलू फरार हो गये। पकड़े गये सभी आरोपी 20 से 35 वर्ष के बीच की उम्र के हैं।

बयान के अनुसार आरोपियों के खिलाफ हजरतगंज कोतवाली में धोखाधड़ी, साजिश और 66 डी आईटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। पकड़े गये आरोपियों ने पूछताछ के दौरान कथित रूप से पुलिस को बताया कि वे छोटे स्तर के नेताओं को विधानसभा, विधान परिषद का टिकट दिलवाने एवं मंत्री बनवाने के लिए बड़े-बड़े नेता एवं उनके निजी सचिव बनकर मोबाइल फोन एवं वाट्सएप पर बातचीत करके विश्वास दिलाते हैं कि उनको मंत्री या एमएलसी बनवा दिया जाएगा या विधानसभा का टिकट दिलवा दिया जाएगा। आरोपियों ने पुलिस को बताया कि वे इस नाम पर लोगों से टोकन मनी लेकर फरार हो जाते हैं।
पुलिस ने दर्ज मामले के हवाले से बताया कि आरोपियों द्वारा रीता सिंह से भारत सरकार के गृह मंत्री एवं उनके निजी सचिव के नाम पर एक करोड़ रुपये टोकन मनी विधान परिषद सदस्य बनवाने एवं उप्र सरकार में मंत्री बनवाने के नाम पर लेने का प्रयास किया जा रहा था। रीता सिंह से फरार अभियुक्त शाहिद ने गृह मंत्री का निजी सचिव बनकर बातचीत की जबकि पकड़े गये हसनैन ने गृह मंत्री अमित शाह बनकर रीता सिंह से बातचीत की और उन्हें टिकट का भरोसा दिया। पुलिस के अनुसार इसके पहले भी आरोपियों द्वारा एक व्‍यक्ति से प्रगतिशील समाजवादी पार्टी से आगामी विधानसभा चुनाव में विधानसभा का टिकट दिलवाने के नाम पर पार्टी अध्यक्ष बनकर चार लाख रुपये टोकन मनी ले ली गई थी।


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Recommended News

static