लखीमपुर के पीड़ितों के परिजनों को छत्तीसगढ़ एवं पंजाब सरकार ने 50-50 लाख रुपये की सहायता दी

10/23/2021 9:36:05 AM

लखनऊ, 22 अक्टूबर (भाषा) उत्तर प्रदेश के लखीमपुर हिंसा में तीन अक्टूबर को मारे गये चार किसानों और एक पत्रकार के परिवार से किया गया वादा निभाते हुए छत्तीसगढ़ और पंजाब की कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्रियों ने शुक्रवार को अपने मंत्री भेजकर यहां 50-50 लाख रुपये की सहायता राशि पांचों परिवारों के हाथों में सौंपी।

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव और उत्‍तर प्रदेश मामलों की प्रभारी प्रियंका गांधी वाद्रा ने ''''शुक्रवार को पंजाब व छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा किये गए वादे को निभाने पर ट्वीट कर कहा कि कांग्रेस पार्टी किसानों के लिये न्याय की लड़ाई पुरजोर तरीके से लड़ेगी, यही हमारी प्रतिज्ञा भी है और प्रतिबद्धता भी।''''
प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय से जारी बयान में कहा गया कि पंजाब सरकार के कृषि मंत्री रणदीप सिंह नाभा एवं छत्तीसगढ़ सरकार के नगरीय प्रशासन मंत्री शिवकुमार डहरिया ने हिंसा में मारे गये पत्रकार रमन कश्यप की पत्नी आराधना कश्यप, माता संतोष कुमारी व पिता रामदुलारे तथा मारे गये किसानों- नक्षत्र सिंह की पत्नी जसवंत कौर, लवप्रीत सिंह के पिता सरदार सतनाम सिंह, दलजीत सिंह की पत्नी परमजीत कौर तथा गुरविंदर सिंह के पिता सुखविंदर सिंह को लखनऊ में 50-50 लाख रूपये का चेक सौंपा।
अश्रुपूरित नेत्रों के साथ आश्रितों ने सहयोग राशि प्राप्त करने के बाद कहा, ''''हम कांग्रेस, प्रियंका गांधी, राहुल गांधी, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तथा पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के आभारी हैं, उन्होंने हमारा दुख साझा किया। हमें न्याय चाहियें, न्याय की आशा के साथ हम आयें हैं।'''' इस मौके पर पंजाब सरकार के कृषि मंत्री रणदीप सिंह नाभा ने कहा, ‘‘किसानों के परिवारों को न्याय मिले, इसके लिये यथासम्भव प्रयास करेंगें। मानव जीवन को वापस नहीं लाया जा सकता, लेकिन उनके आश्रितों के प्रति हमारे दायित्व थे, हमने आपसे वादा किया था, उसे निभाने आयें हैं।’’
उन्होंने कहा कि हर जरूरत पर कांग्रेस पीड़ित परिवारों के साथ खड़ी है, भाजपा ने किसानों के साथ अन्याय किया, तीनों कृषि कानून किसान विरोधी हैं, कृषि कानूनों का लोकतांत्रिक तरीके से विरोध करने की कीमत भाजपा सरकार की क्रूरता के कारण उन्हें अदा करनी पड़ी।
नाभा ने कहा कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के पुत्र ने अमानवीय क्रूर घटना की, हम शहीद किसानों और पत्रकार के परिवार को न्याय दिलाने के लिए साथ खडे़ हैं।

छतीसगढ़ सरकार के नगरीय प्रशासन मंत्री शिव कुमार डहरिया ने घटना पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के वादे के अनुसार लखीमपुर के पत्रकार व किसानों के आश्रितों को 50-50 लाख रुपये की सहायता राशि देने आये हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस किसानों के शोक संतप्त परिवारों के साथ खड़ी है और हम आपका दुख बांटने आये हैं।

उन्होंनें कहा कि भारतीय जनता पार्टी की केंद्र व राज्य सरकार किसानों को अपने कारपोरेट मित्रों के हित में बर्बाद करने पर तुली है और कांग्रेस अपना वादा पूरा करना, वचन निभाना जानती है, हम अपना वचन निभाने व आपके दर्द को साझा करने आये हैं।
उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार आपके साथ खड़ी है, देश के किसानों के साथ खड़ी है, राज्य की योगी सरकार एक तानाशाह के रूप में हत्यारों व उनको प्रेरित करने वालों को बचाने में लगी है।

सहायता राशि सौंपे जाने के समय पूर्व मंत्री तथा कांग्रेस मीडिया विभाग के चेयरमैन नसीमुद्दीन सिद्दीकी समेत कई प्रमुख नेता मौजूद थे।

गौरतलब है कि पिछली तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी जिले के तिकुनिया इलाके में हुई हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी। इस मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष तथा 15-20 अन्य लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया है। आशीष को नौ अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया था। इस मामले में अब तक 10 लोग गिरफ्तार किये जा चुके हैं। इस मामले को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने कड़ा विरोध किया और मौके पर जाकर पीड़ित परिवारों से मिलीं। उनके साथ कांग्रेस शासित छत्‍तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल और पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी भी पीड़ित परिवारों से मिलने गये थे और हर संभव सहयोग का वादा किया था।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News

static