DSP जियाउल हक हत्याकांड में बाहुबली राजा भैया की बढ़ी मुश्किलें, CBI ने शुरू की जांच

punjabkesari.in Saturday, Dec 18, 2021 - 12:33 PM (IST)

प्रतापगढ़:  उत्तर प्रदेश के कुंडा जिले में सीओ जियाउल हक हत्याकांड का मामला एक बार फिर से सियासी गलियरों में चर्चा का विषय बना हुआ है। वहीं, इस हत्याकांड के आरोपी कुंडा से विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया की मुश्किलें बढ़ सकती है। दरअसल, एक बार फिर सीबीआई की टीम सीओ जियाउलहक की हत्या की जांच पड़ताल करने के लिए कुंडा पहुंची। सीबीआई की क्लोजर रिपोर्ट को उच्च न्यायालय खण्ड पीठ लखनऊ द्वारा खारिज किये जाने के बाद शुक्रवार को सीबीआई की टीम बलीपुर गांव पहुँच कर विभिन्न पहलुओं पर फिर से जांच पड़ताल शुरू किया।

गौरतलब है कि कुंडा के बलीपुर गांव में 2 मार्च 2013 को शाम साढ़े सात बजे प्रधान नन्हे सिंह यादव की हत्या कर दी गई थी। घटना की जानकारी मिलते ही बड़ी संख्या में समर्थक हथियार लेकर बलीपुर गांव में उनके घर जुटने लगे। रात सवा आठ बजे ग्रामीणों ने कामता पाल के घर में आग लगा दी। इसी समय सीओ जियाउल हक गांव में पीछे के रास्ते से प्रधान के घर की तरफ बढ़े, लेकिन ग्रामीणों द्वारा की जा रही फायरिंग से डरकर सीओ की सुरक्षा में लगे गनर इमरान और एसएसआइ कुंडा विनय कुमार सिंह खेत में छिप गए। कुंडा के कोतवाल सर्वेश मिश्र भी आक्रोशित ग्रामीणों से घबराकर नन्हे सिंह के घर की तरफ जाने की हिम्मत न जुटा सके। रात साढ़े आठ बजे प्रधान के छोटे भाई 38 वर्षीय सुरेश यादव की हत्या कर दी गई।

रात 11 बजे भारी पुलिस बल बलीपुर गांव पहुंचा और सीओ की तलाश शुरू हुई। आधे घंटा बाद जियाउल हक का शव प्रधान के घर के पीछे खड़ंजे पर पड़ा मिला। बलीपुर में नन्हे सिंह के छोटे भाई सुरेश और तत्कालीन सीओ, कुंडा जिया उल हक की भी हत्या हुई थी, जिसका आरोपी राजा भैया को बनाया था।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tamanna Bhardwaj

Related News

Recommended News

static