Rampur: जब अचानक पेड़ से होने लगी 500 के नोटों की बारिश, जानें क्या है पूरा मामला !

punjabkesari.in Friday, Sep 17, 2021 - 02:12 PM (IST)

रामपुर: कहते हैं कि पैसा हर इंसान की जरूरत होता है और अगर कोई उसके मेहनत के पैसों को लूट ले तो उस शख्स की बेचैनी बढ़ना लाजमी है। लेकिन जब ऐसे कारनामों को शरारती बंदरों द्वारा अंजाम दिया जाए तो घटना दिलचस्प हो जाती है। रामपुर के शाहाबाद थाना क्षेत्र में कुछ शरारती बंदरों द्वारा उछल कूद की सारी हदें पार करते हुए 1 लाख रुपए वकील के हाथ से उड़ा लिए और पेड़ पर चढ़कर नोटों को इस कदर उड़ाया जैसे कि लोग शादी में खुशियां मनाते हैं।

PunjabKesari
क्या है पूरा मामला?
पूरी मामला रामपुर के शाहाबाद तहसील परिसर का है। जहां वकालत करने वाले विनोद बाबू नटखट बंदर की हरकतों के चलते उस समय सकते में आ गए जब बंदरों ने पहले तो उनकी बाइक खंगाली फिर उनके हाथों से 1 लाख रुपए की रकम से भरा थैला छीन कर पेड़ पर चढ़ गए। जिसके बाद बंदरों ने 50 हजार रुपए की गड्डी तो सही सलामत नीचे फेंक दी जबकि 50 हजार रुपए की दूसरी गड्डी में से 5-5 सौ रुपए के नोटों को हवा में उड़ाना शुरू कर दिया। आवारा बंदर की इन हरकतों को देखने के लिए पेड़ के नीचे लोगों की भीड़ जमा हो गई लेकिन बंदर अपनी करतूतों से बाज नहीं आए।

PunjabKesari
जिसका परिणाम यह हुआ कि वकील साहब को 5-5 सौ रुपये के 17 नोटों को गवाना भी पड़ गया। वकील साहब को बंदर की इन हरकतों ने जरूर मायूस कर डाला है लेकिन उन्हें इस बात का भी संतोष है की अगर उनके बेटे ने सही समय पर बंदरों की करतूत पर नजर ना डाली होती तो बड़ा नुकसान भी हो सकता था।

PunjabKesari
बता दें कि इन दिनों जनपद के कई हिस्सों में बंदरों के आतंक से लोगों का जीना मुहाल हो गया है। लेकिन वन विभाग के कानों पर आवारा बंदरों के झुंड पर अंकुश लगाए जाने को लेकर किसी तरह की कोई ठोस कार्यवाही अमल में नहीं लाई जा रही है।

PunjabKesari
पीड़ित वकील के बड़े बेटे आशीष वशिष्ठ ने बताया कि पिताजी मेरे तहसील शाहबाद में सीनियर एडवोकेट हैं। हमें 1 लाख रूपये का पेमेंट करना था उसे लेकर पिताजी मधुकर ब्रांच पैसे निकालने गए थे। तहसील में थोड़ी देर के लिए हम रुके फिर वहीं गेट के पास किसी ने बंदरों के लिए खाना डाल दिया। जिसके बाद वहां बहुत सारे बंदर इकट्ठे हो गए और पिताजी के हाथ से पेसों से भरा बैग छीन कर पेड़ पर चढ़ गए। उन्होंने बताया कि जिसमें 50-50 हजार की दो गड्डियां थी। एक गड्डी तो नीचे गिरा दी और दूसरी गड्डी उसने खोल दी और उसमें से पैसे निकाल कर फेंकने लगे और उसमें से कुछ नोट फाड़ भी दिए।

PunjabKesari
आशीष ने बताया कि इस बाबत जैसे ही तहसील में मौजूद अन्य वकीलों को पता चला वह इक्ट्ठा हो गए और उनकी मदद से बिखरे पैसे इकट्ठा हो पाए। लेकिन लगभग 17 नोट कम रह गए। फिलहाल उन्होंने सभी वकीलों को मदद करने के लिए धन्यावाद दिया।    

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Umakant yadav

Related News

Recommended News

static