10वीं के छात्र ने की आत्महत्या, लिखा- ''सुशांत कर सकता है तो मैं क्यों नहीं''

punjabkesari.in Tuesday, Jun 16, 2020 - 01:36 PM (IST)

बरेलीः बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने रविवार को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। जिससे पूरा देश सदमे में है। वहीं उत्तर प्रदेश बरेली में 10वीं के छात्र कार्तिक ने भी फांसी लगाकर अपनी जिंदगी को खत्म कर लिया। इसके साथ ही उसने अपनी सुसाइड नोट में लिखा कि अभिनेता सुशांत कर सकता है तो मैं क्यों नहीं कर सकता।


लोग बनाते थे मजाक
बता दें कि जिले के नेकपुर निवासी राजीव सक्सेना उत्तराखंड के टनकपुर के मूल निवासी हैं। उनकी पत्नी अनुपमा सक्सेना की पांच साल पहले मौत हो चुकी है। उनकी चंपावत में ही मोबाइल रिपेयर की दुकान है। लॉकडाउन लगने के बाद से वह बरेली में ही रह रहे थे। उनके साथ दो बेटे, बड़ा दसवीं का छात्र कार्तिक सक्सेना (16) और छोटा बेटा शुभ किराए के मकान में रहते थे। सोमवार को वह अपने मकान मालिक सुरेश के दामाद की रोडवेज पर मोबाइल की दुकान पर बैठे थे। इसी दौरान छोटे बेटे शुभ ने फोन पर कार्तिक के फंदे पर लटके होने की खबर दी। कार्तिक का शव कमरे में गमछे से लटका मिला। सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम को भेजा। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

सुशांत कर सकता तो मैं क्यों नहीं 
कार्तिक ने सुसाइड नोट में खुलासा किया जिसे पढ़कर न सिर्फ पुलिस सन्न रह गई बल्कि पिता और करीबी भी दंग रह गए। सुसाइड नोट में उसने लिखा कि, उसकी शक्ल लड़कियों जैसी लगती है। लोग हंसी उड़ाते हैं। अब तो उसे भी लगने लगा है कि वह किन्नर है। जिसके कारण आत्महत्या ही उसके लिए एक रास्ता बचा है। आगे लिखा है कि मैं एक अच्छा लड़का नहीं हूं और कुछ नहीं कर सकता है। उसके अंदर पिता की तरह कमाने की लगन नहीं हैं। वह एक सिंगर था और बच्चों को आर्ट सिखाना चाहता था। किन्नर के लक्षण होने के कारण अगर जीता तो अपने पिता के जीवन में ग्रहण बन जाता। जिसके कारण उसका मरना जरुरी है। इसके साथ ही उसने लिखा है कि अगर परिवार में कोई लड़की जन्म ले तो समझ लेना वह उसका दूसरा जन्म हैं। उसने मौत के लिए किसी को जिम्मेदार नहीं ठहराया।

मेरा बेटा एक अच्छा कलाकार थाः पिता
कार्तिक के पिता राजीव सक्सेना ने बताया कि उनका बेटा दसवीं का छात्र था और बहुत अच्छी ड्रॉइंग करता था। वह अक्सर किसी न किसी तरह से खाली शीट पर तरह-तरह के डिजाइन बनाता रहता था। उसके स्कूल के टीचर भी उसे ड्रॉइंग में आगे बढ़ने की प्रेरणा देते थे। पिता का कहना था कि उनका बेटा एक अच्छा कलाकार था जो अब इस दुनिया में नहीं रहा। उसने सुशांत सिंह की आत्महत्या की खबर देखी और उसने फांसी लगा ली।

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Author

Moulshree Tripathi

Related News

Recommended News

static