कोरोना मामले हुए कम तो बिजली खपत में हुआ रिकॉर्ड इजाफा, जानें पूरा मामला

punjabkesari.in Friday, May 20, 2022 - 12:49 PM (IST)

प्रयागराज: पिछले 3 महीनों से लगातार बढ़ रही गर्मी ने लोगो की चिंता के साथ-साथ बिजली की खपत को भी बढ़ा दिया है। बता दें कि पिछले साल मार्च और अप्रैल की तुलना में इस साल मार्च और अप्रैल के महीने में पौने नौ करोड़ यूनिट बिजली की अधिक खपत हुई है।

PunjabKesari
अधिकारियों की बात माने तो उनका कहना है कि पिछले साल कोरोना संक्रमण अधिक था जिसकी वजह से लोगों ने एसी कूलर का संचालन नहीं किया था लेकिन इस बार कोरोना केसेस कम होने की वजह से एसी कूलर अधिक चल रहे हैं जिसकी वजह से बिजली की खपत अधिक हो रही है।

PunjabKesari
अगर प्रयागराज में पिछले साल मार्च महीने की बात करें तो 312.005 मिलियन यूनिट बिजली की खपत हुई थी जो इस वर्ष बढ़कर 336.077 मिलियन यूनिट हो गई। इसी प्रकार पिछले साल अप्रैल महीने में 336.590 मिलियन यूनिट बिजली की खपत हुई थी जो इस वर्ष बढ़कर 399.943 मिलियन यूनिट हो गई। वर्ष 2021 की तुलना में इस मार्च में जहां 24.072 मिलियन यूनिट अधिक बिजली की खपत हुई वहीं अप्रैल महीने में 63.353 मिलियन यूनिट का इजाफा हुआ है। दोनों महीने को मिलाकर के 87.425 मिलियन यूनिट अधिक बिजली खर्च हुई है।

PunjabKesari
प्रयागराज मंडल के चीफ इंजीनियर विनोद कुमार का कहना है कि शासन की तरफ से सख्त निर्देश है कि जिस इलाके में बिजली समस्या हो वहां पर जल्द से जल्द इस समस्या का समाधान किया जाए। इसके साथ ही प्रयागराज, फतेहपुर, कौशांबी, प्रतापगढ़ के सभी एसडीओ और जेई को निर्देश दिए गए हैं की शहरी इलाके में ट्रांसफार्मर जलने की सूचना पर शहरी इलाके में 8 घंटे जबकि ग्रामीण इलाके में 12 घंटों तक ट्रांसफार्मर की समस्या का समाधान हो जाना चाहिए। इस भीषण गर्मी में किसी भी उपभोक्ता को कोई समस्या ना हो इसके लिए विभाग लगातार काम कर रहा है।

PunjabKesari
उधर, मार्च और अप्रैल महीने में बिजली की अधिक खपत को लेकर अधिशासी अभियंता आर एस यादव का कहना है कि अबकी बार अधिक गर्मी के चलते और कोरोना कम होने की वजह से लोगों ने एसी का इस्तेमाल अधिक किया है। जिसकी वजह से पौने 9 करोड़ यूनिट बिजली अधिक खर्च हुई है। हालांकि किसी भी उपभोक्ता को कोई समस्या ना हो इसके लिए वह लोगों से अपील कर रहे हैं कि उपभोक्ता बिजली चोरी से बचें साथ ही नियमित तौर पर बिजली का बिल जरूर जमा करते रहे।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Mamta Yadav

Related News

Recommended News

static