योगी पुलिस का शर्मनाक चेहरा: होटल में चेकिंग दौरान तीन युवक को पीटा, एक मौत

punjabkesari.in Tuesday, Sep 28, 2021 - 01:27 PM (IST)

गोरखपुर: सीएम सिटी गोरखपुर से पुलिस का शर्मनाक चेहरा सामने आया है। जहां पर कानपुर और हरियाणा से तीन दोस्तों को होटल में रुके थे इस दौरान पुलिस ने जांच के नाम पर युवक को इतना पीटा कि एक युवक की मौत हो गई। जबकि की को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां पर उनका इलाज चल रहा है। मृतक कानपुर का रहने वाला है। मौत की खबर सुनकर परिजनों में कोहराम मचा हुआ है। बताया जा रहा है कि युवक का कसूर सिर्फ इतना था कि आधी रात को होटल में चेकिंग करने पहुंची पुलिस से युवक पूछ बैठा, इतनी रात में यह चेकिंग का क्या तरीका है? क्या हम लोग आतंकवादी हैं? सिर्फ इतना पूछना उन्हें भारी पड़ गया। आरोप है कि इंस्पेक्टर रामगढ़ ताल जेएन सिंह और फल मंडी चौकी इंचार्ज अक्षय मिश्र ने दो युवकों को पहले पीटते हुए बाहर कर दिया, इसके बाद होटल का कमरा बंद कर तीसरे युवक को इतना पीटा कि उसकी वहीं मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। इसके बाद पुलिस उसे अस्पताल ले गई, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।
PunjabKesari
पीड़ित ने बताया गोरखनाथ मंदिर और चिड़ियाघर घूमने की थी प्लानिंग
वहीं, घटना के बाद पुलिस अधिकारी इस मामले पर चुप्पी साधे हुए हैं। कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं है। डीआईजी जे रविंद्र गौड़ ने कहा कि मामला संज्ञान में आया है। जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। दरअसल, सिकरीगंज के महादेवा बाजार के रहने वाले चंदन सैनी ने बताया कि वह बिजनेस करते हैं। उनके तीन दोस्त गुड़गांव से प्रदीप चौहान(32) और हरदीप सिंह चौहान(35) जबकि कानपुर से मनीष गुप्ता(35) गोरखपुर घूमने आए थे। चंदन के मुताबिक सभी दोस्त रियल इस्टेट और अन्य बिजनेस करते हैं। फोन पर बात होने के दौरान चंदन अपने दोस्तों को हमेशा गोरखपुर में हो रहे विकास के बारे में बताते रहते थे। काफी दिनों से प्लानिंग थी कि एक बार गोरखपुर घूमने जरूर आएंगे। लॉकडाउन की वजह से पहले आ नहीं सके।
PunjabKesari
रात में होटल में चेकिंग करने पहुंची थी पुलिस
सोमवार को तीनों अपने दोस्त चंदन सैनी से मिलने और घूमने गोरखपुर पहुंचे। चंदन ने दोस्तों को रामगढ़ ताल इलाके के एलआईसी बिल्डिंग के समीप स्थित होटल कृष्णा पैलेस के रूम नंबर 512 में ठहराया था। आरोप है कि सोमवार की रात करीब 12.30 बजे रामगढ़ ताल पुलिस होटल में चेकिंग करने पहुंची। इंस्पेक्टर जेएन सिंह, फल मंडी चौकी इंचार्ज अक्षय मिश्रा के अलावा थाने की अन्य फोर्स साथ में थी। होटल के कमरे का दरवाजा नॉक कर खुलवाया। पुलिस के साथ होटल का रिशेप्शनिस्ट भी था। पुलिस वालों ने बोला कि चेकिंग हो रही है। सभी अपनी आईडी प्रूफ दिखाओ।
PunjabKesari
चेकिंग का कारण पूछने पर बौखला गई पुलिस
तीनों में हरदीप ने खुद का और अपने साथी प्रदीप चौहान की आईडी दिखा दी। जबकि मनीष सो रहे थे। प्रदीप ने उन्हें आईडी दिखाने के लिए नींद से जगाया। इतने पर प्रदीप वहां मौजूद पुलिस वालों से बोल बैठा, इतनी रात में यह चेकिंग किस बात की हो रही है। हम लोग क्या आतंकवादी हैं? सोते हुए इंसान को आप लोग उठाकर डिस्टर्ब कर रहे हैं। आरोप है कि इतने पर ही पुलिस वाले बौखला गए। आरोप है कि पुलिस वालों ने शराब पी रखी थी। आरोप है कि इंस्पेक्टर जेएन सिंह और अक्षय मिश्रा ने इतने पर उन्होंने पीटना शुरू कर दिया। हम दोनों को पीटते हुए कमरे से बाहर ले गए। कुछ ही देर बाद देखा कि पुलिस वाले साथी मनीष गुप्ता को घसीटते हुए बाहर लेकर आए, वह खून से लथपथ था। इसके बाद पुलिस वाले मनीष को अस्पताल ले गए। जहां उसकी मौत हो गई।

माता- पिता का इकलौता बेटा था मनीष
पुलिस वाले दोबारा आए थे ​तो सभी ने अपनी नेम प्लेट भी हटा ली थी। चंदन सैनी ने बताया कि मृतक दोस्त कानपुर का रहने वाला है। घटना की सूचना उसके परिवार को दे दी गई है। परिवार के लोग गोरखपुर पहुंच रहे हैं। मनीष अपने माता-पिता का इकलौता बेटा था। 5 वर्ष पहले ही उसकी शादी हुई थी। परिवार में उसके बीमार पिता और पत्नी के अलावा उसका एक 4 साल का मासूम बेटा है। मां की कुछ दिनों पहले मृत्यु हो चुकी है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramkesh

Related News

Recommended News

static