किसानों की भूख हड़ताल के समर्थन में विपक्ष के प्रदर्शन के मद्देनजर UP में पहरा सख्त

12/14/2020 1:32:20 PM

लखनऊ: किसान आंदोलन के समर्थन में उत्तर प्रदेश में मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी (सपा) के राज्यव्यापी धरना प्रदर्शन के मद्देनजर किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिये सुरक्षा के चाकचौबंद इंतजाम किये गये हैं। लखनऊ में सपा कार्यालय के बाहर बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। कार्यालय को बैरीकेडिंग कर घेर लिया गया है। जिला प्रशासन ने कोविड प्रोटोकाल का हवाला देते हुये धरना प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी है। पुलिस का कहना है कि धरना प्रदर्शन की इजाजत नहीं दी जायेगी और कानून का उल्लघंन करने वालों से सख्ती से निपटा जायेगा। 
      
PunjabKesari
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर पार्टी कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी सोमवार को सभी जिला मुख्यालय पर धरना करेंगे। सपा के अलावा कांग्रेस, राष्ट्रीय लोकदल और आम आदमी पार्टी (आप) ने भी किसानों की भूख हड़ताल को अपना समर्थन देते हुये धरना प्रदर्शन का एलान किया है। उधर, किसानों ने रक्षा मंत्री और लखनऊ के सांसद राजनाथ सिंह के आवास के घेराव करने की चेतावनी दी है। इसके मद्देनजर सिंह के दिलकुशा स्थित आवास के आस-पास सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये हैं। किसान इसके अलावा मोहनलालगंज से सांसद कौशल किशोर के आवास के बाहर प्रदर्शन करेंगे।

PunjabKesari
फिरोजाबाद से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार किसान आंदोलन के समर्थन में सपा कार्यकर्ताओं ने जिला मुख्यालय पर धरना दिया और सरकार विरोधी नारेबाजी की। पुलिस ने 60 से अधिक सपा कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया है। सिविल लाइन के बाहर बैठे सपा नेताओं को पुलिस ने जबरन हटा दिया। कानून व्यवस्था न बिगड़े इसके लिए पुलिस चप्पे चप्पे पर तैनात की गयी है। 

PunjabKesari
उधर, गोरखपुर में नगर निगम परिसर में सपा के प्रदर्शन करने से पहले ही पुलिस ने बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया। जौनपुर में सपा सरकार में मंत्री रहे जगदीश नारायण राय समेत पार्टी के अन्य नेताओं और पदाधिकारियों के घर के बाहर पुलिस का पहरा बैठा दिया है। जिले के जफराबाद विधानसभा क्षेत्र में किसान यात्रा के मद्देनजर भारी पुलिस बल सुबह से ही सपा के कद्दावर नेता के घर के बाहर तैनात कर दिया गया है। जिले में घरों के अंदर मौजूद सपा नेताओं पर बाहर निकलने पर पाबंदी लगा दी गई है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Umakant yadav

Recommended News

static