बरेली: BSA का तुगलकी फरमान, अब पढ़ाना छोड़ रंगोली बनाएंगे शिक्षक, CM के आगमन पर लगी ड्यूटी

3/6/2021 8:32:42 PM

बरेली: उत्तर प्रदेश के बरेली में नवनिर्मित बार्ली एयरपोर्ट पर 8 मार्च को पहली उड़ान शुरू होगी, जिसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को शामिल होना है। इस कड़ी में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने तुगलकी फरमान जारी करते हुए एयरपोर्ट पर शिक्षकों की ड्यूटी रंगोली बनाने के लिए लगाई है। इतना ही नहीं उन्हें सुबह 4 बजे उपस्थित होने के लिए कहा गया है। साथ ही किसी भी तरह की लापरवाही बर्दास्त न की जाने की भी बात कही गई है।  

PunjabKesari

CM के आगमन पर शिक्षकों को मिला रंगोली बनाने का काम
बता दें कि आगामी सोमवार को अतरराष्ट्रीय महिला दिवस के दिन बरेली एयरपोर्ट से पहली बार यात्री विमान उड़ान भरेगा। जिसमें योगी आदित्यनाथ भी आ रहे हैं। योगी के आगमन को देखते हुए एयरपोर्ट पर मंच सज्जा और रंगोली बनाने का काम सरकारी टीचरों को सौंपा गया है। दरअसल, बरेली जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी का एक आदेश पत्र सामने आया है। इस पत्र में 15 शिक्षकों के नाम की सूची है। जिसमें 8 मार्च को उनकी ड्यूटी एयरपोर्ट पर लगाई गई है। साथ ही सुबह के 4 बजे उन्हें उपस्थित रहने को कहा कहा गया है। पत्र के मुताबिक एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री का आगमन है।

सवाल: शिक्षकों का काम पढ़ाना है या साज-सज्जा करना
शिक्षकों का काम समाज के छात्रों को ज्ञान देना और शिक्षा देना है लेकिन प्रशासन समय-समय पर उनसे ऐसे काम करवाता है, जो न तो उनके कार्यक्षेत्र का हिस्सा है और न ही वे इसके जिम्मेदार हैं। अब सवाल यह उठता है कि शिक्षकों का काम पढ़ाना है या साज सज्जा करना। जबकि आम परिवारों में भी किसी प्रोग्राम या शादी समारोह में प्रोफेशन लोगों को लगाया जाता है। जिसकी उचित कीमत देकर उनसे डेकोरेशन कराई जाती है। फिर सरकारी कामों में ऐसा क्यों नहीं किया जाता है।

शिक्षकों से रंगोली, डेकोरेशन निर्माण कार्य कराना कितना उचित?
मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री के आगमन पर रंगोली, डेकोरेशन निर्माण कार्य शिक्षकों से करवाना कितना उचित है। अब देखना यह है कि क्या सरकार जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के ऐसे फरमानों पर कोई कार्रवाई करती है या इसी तरह अन्य कार्यक्रमों में शिक्षक तैनात किए जाते रहेंगे।             


Content Writer

Umakant yadav

Related News