रियल एस्टेट से लेकर राजनीति तक था विकास दुबे का सफर, जिला स्तर के चुनाव में हासिल की थी जीत

7/10/2020 4:42:36 PM

कानपुर: कुख्यात अपराधी एवं कानपुर के बिकरू गांव में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले का मुख्य आरोपी विकास दुबे शुक्रवार सुबह कानपुर के भौती इलाके में कथित पुलिस मुठभेड़ में मारा गया। दुबे ने रियल एस्टेट में हाथ आजमाए, जिला स्तर का एक चुनाव भी जीता और राजनीतिक हस्तियों के साथ भी नजर आया।
PunjabKesari
8 पुलिसकर्मियों को उतारा था मौत के घाट
बता दें कि अपने क्षेत्र में दबदबा बनाने वाला दुबे पिछले शुक्रवार को उस वक्त सुर्खियों में आया जब उसके खिलाफ कार्रवाई करने गए आठ पुलिसकर्मियों पर गोलियों की बौछार करते हुए उन्हें मौत के घाट उतारने की सनसनीखेज घटना हुई।
PunjabKesari
घटना के कुछ घंटे बाद यूपी सरकार के मंत्री के साथ वायरल हुई था तस्वीर 
इस घटना के कुछ ही घंटों बाद विकास दुबे की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल होने लगी, जिसमें वह एक कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश सरकार के एक मंत्री के साथ दिखाई दे रहा था। कांग्रेस ने दावा किया था कि यह दिखाता है कि उसे राजनीतिक संरक्षण मिला हुआ है।
PunjabKesari
इसके अलावा, एक अन्य तस्वीर में दुबे जिला पंचायत के चुनाव में अपनी पत्नी रिचा दुबे के लिए वोट मांगते हुए दिखाई दे रहा था। रिचा यह चुनाव घिमाऊ से जीती थीं और बिकरू गांव इसी जिला पंचायत के अंतर्गत आता है। इस पोस्टर में दो नेताओं की भी तस्वीरें हैं जो दिखाती है कि कुख्यात अपराधी की पत्नी को भी नेताओं का समर्थन था। ये दोनों अब विपक्ष में हैं।

दुबे ने जेल में रहते हुए शिवराजपुर सीट से हासिल की थी जीत 
अधिकारियों के मुताबिक, वर्ष 2000 में दुबे ने जेल में रहते हुए खुद भी जिला पंचायत चुनाव में शिवराजपुर सीट से जीत हासिल की थी। उस दौरान वह हत्या के मामले में जेल में बंद था। दुबे की गिरफ्तारी के बाद उसकी मां सरला देवी ने कहा था, ‘‘इस वक्त वह भाजपा में नहीं है, वह सपा में है।’’ इस पर समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता ने कहा कि दुबे, ‘‘पार्टी का सदस्य नहीं है’’ और उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए और जैसा कि पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मांग की है, उसके कॉल डीटेल्स सार्वजनिक किए जाने चाहिए ताकि इस बात का खुलासा हो सके कि उसके किसके साथ संपर्क थे।

दुबे अपनी कार से महाकाल मंदिर आया: मंत्री नरोत्तम मिश्रा
मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बृहस्पतिवार को कहा, ‘‘ दुबे अपनी कार से महाकाल मंदिर आया। एक पुलिसकर्मी उसे पहचान गया, इसके बाद तीन अन्य (सुरक्षाकर्मियों) को चौकन्ना किया गया, इसके बाद उसे पूछताछ के लिए एक तरफ ले जाया गया और बाद में उसे गिरफ्तार कर लिया गया।’’

पुलिस चौकी के पास एक काउंटर से 250 रुपये का खरीदा टिकट 
हालांकि मंदिर के सूत्रों का कुछ अलग कहना है। उन्होंने कहा कि दुबे सुबह मंदिर के गेट पर पहुंचा और पुलिस चौकी के पास एक काउंटर से 250 रुपये का टिकट खरीदा। जब वह प्रसाद खरीदने के लिए पास की एक दुकान पर गया तो दुकानदार ने उसे पहचान लिया और पुलिस को सतर्क कर दिया।

विकास ने चिल्लाकर कहा - "मै विकास दुबे कानपुर वाला"
उन्होंने कहा कि जब पुलिसकर्मियों ने उससे उसका नाम पूछा, तो उसने जोर से कहा, ‘‘मैं कानपुर का विकास दुबे हूं’’ जिसके बाद मंदिर में तैनात पुलिस और निजी सुरक्षाकर्मियों ने उसे पकड़ लिया। मध्यप्रदेश पुलिस ने उसे उत्तर प्रदेश पुलिस के हवाले कर दिया।

 सड़क हादसे के बाद दुबे ने मौके से भागने का प्रयास किया: IG
यूपी पुलिस ने दावा किया कि जब उसे राज्य में लाया जा रहा था तो शुक्रवार सुबह कानपुर के भौती इलाके में वाहन पलट गया। पुलिस महानिरीक्षक मोहित अग्रवाल ने बताया कि सड़क हादसे के बाद दुबे ने मौके से भागने का प्रयास किया, जिसके बाद हुई मुठभेड़ में वह मारा गया। वहीं, पुलिस वाहन पलटने से पुलिस निरीक्षक सहित चार पुलिसकर्मी घायल भी हो गए, जिनमें से एक की हालत गंभीर है।


Edited By

Umakant yadav

Related News