शौक पूरे करने के चक्कर में सलाखों के पीछे गए जम्मू-कश्मीर के 3 युवक, जानिए मामला

punjabkesari.in Sunday, May 15, 2022 - 04:16 PM (IST)

 

नैनीतालः जम्मू-कश्मीर के राजौरी के 3 युवक ज्यादा पैसा कमाने के चक्कर में सलाखों के पीछे चले गए। उत्तराखंड की रामनगर पुलिस ने तीनों युवकों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

मामला ऑनलाइन ठगी का है। नैनीताल पुलिस के अनुसार नौकरी के चक्कर में जम्मू कश्मीर से 3 युवक अलग अलग राजौरी से रुड़की के पिरान कलियर पहुंचे। इसी दौरान अब्दुल परवेज निवासी 12 पंजग्रेन, मुंजाकोट, राजौरी की पहचान तारीख अनवर मूल निवासी आरो, राजौरी, जम्मू कश्मीर व मो. मुज्जमिल चौधरी निवासी गंभीर मुगला, मंजाकोट, राजौरी से हो गई। तीनों कमरा लेकर एक साथ रहने लगे और प्राइवेट नौकरी करने लगे। मो. तारीख व मो. मुज्जमिल दोनों सॉफ्टवेयर इंजीनियर थे तो अब्दुल परवेज मोबाइल चलाने में माहिर था। तीनों के शौक भी बड़े थे और तनख्वाह बेहद कम थी। तीनों ने यहीं से ठगी की योजना बनाई। तीनों ने पहले जान पहचान के युवक से एक सॉफ्टवेयर खरीदा और उसे डेवलप कर ठगी के लिए उपयोग करने लगे।

तीनों शातिर किस्म के थे और पकड़ जाने के भय से अपनी पहचान छिपाए रखते थे। असली नाम की जगह लोगों को राहिल, जीशान, अजय, सुरेश अग्रवाल बताते थे। तीनों ने पहले रामनगर के मो. अंजुम को फेसबुक से एक लिंक भेजा। उसने उसे उनके झांसे में आकर उसे क्लिक कर दिया और फिर उसे विश्वास में लेकर ठगी करनी शुरू कर दी। जब इनके खाते में अच्छी खासी रकम हो गई तो आरोपियों ने नंबर और लिंक बंद कर दिया। लोगों को जब ठगी का अहसास हुआ तो रामनगर के सैयद रियाज की ओर से 16 अप्रैल को रामनगर पुलिस को 17 लाख रुपए ऑनलाइन ठगी की शिकायत की गई। साथ ही आरोपियों के नाम मो. राहिल, मो. जीशान व सुरेश अग्रवाल उर्फ अजय बताए। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच किया तो मामला कुछ और ही निकला।

पुलिस को सबसे पहले कर्नाटक बैंक का एक खाता नंबर मिला। उसकी तस्दीक की तो वह पिरान कलियर का निकला। इसके बाद आरोपियों की लोकेशन भी पिरान कलियर में ही मिली। पुलिस ने सबसे पहले अब्दुल परवेज को गिरफ्तार किया और उसके बाद ठगी की पूरी कहानी सामने आ गई। पुलिस ने अब्दुल के 2 अन्य साथियों को भी गिरफ्तार कर लिया।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Nitika

Related News

Recommended News

static