उत्तराखंड कैबिनेट का फैसला- मोटर व्हीकल एक्ट में बदलाव कर जुर्माने में 50 फीसदी तक रियायत

9/12/2019 10:29:46 AM

देहरादूनः उत्तराखंड में कैबिनेट ने केंद्र सरकार द्वारा 1 सितंबर से देश में मोटर वाहन अधिनियम में संशोधन कर जुर्माने की दरों में की गई वृद्धि को 50 प्रतिशत तक कम करने का निर्णय लिया है। राजधानी देहरादून स्थित सचिवालय में बुधवार को देर शाम तक मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में कैबिनेट की अहम बैठक संपन्न हुई।

बैठक के निर्णयों की शासकीय प्रवक्ता मदन कौशिक ने जानकारी देते हुए बताया कि कुल 16 विषयों पर निर्णय लिए गए। उन्होंने बताया कि मोटर वाहन अधिनियम 1988 में संशोधन के उपरान्त भारत सरकार की दरों एवं दंड में राज्य की परिस्थितियों के अनुरूप छूट प्रदान करने की अनुमति दी गई है। इसमें लगभग 50 फीसदी तक की रियायत आम वाहन चालकों को मिल सकेगी।

- महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) में संविदा के 2668 पदों को साल 2009 में स्वीकृति दी गई थी। इनके मानदेय में 2016 में 5 प्रतिशत की वृद्धि की गई थी। इनमें 2 पद कम्प्यूटर प्रोग्रामर राज्य स्तर/जिला स्तर को त्रुटिवश शामिल नहीं किया गया था। अब इन 2 कम्प्यूटर प्रोग्रामर राज्य स्तर, जिला स्तर के पदों के वेतन मानदेय में 5 प्रतिशत की वेतन वृद्धि देने के साथ कैम्प अधिसूचना के वार्षिक लेखा 2010-11, 2011-12, 2012-13 को विधानमंडल के पटल पर रखने की अनुमति कैबिनेट द्वारा दी गई।
 

बैठक में एलटी शिक्षकों के लिए भी अच्छी खबर
- कैबिनेट ने उत्तराखंड राज्य सम्पत्ति समूह 'ग' सेवा नियमावली में संशोधन की अनुमति दी है। निर्णय किया गया कि 31 मार्च, 2019 के बाद पूर्व मुख्यमंत्री को दी जाने वाली सुविधाएं अब नही दी जाएगी। उत्तराखंड विशेष शिक्षा प्रवक्ता अधीनस्थ सेवा नियमावली 2019 में संशोधन करने के साथ उत्तराखंड अधीनस्थ शिक्षा एलटी ग्रेड सेवा नियमावली में भी संशोधन किया गया है।

जॉलीग्रांट एयरपोर्ट को अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बनाने पर मंत्रिमंडल की मुहर
- देहरादून के जॉलीग्रांट हवाई अड्डे को को अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बनाने को मंजूरी दी गई है। एकल आवास भवनों पर वृद्धि की गई, एक मुश्त सैटलमेंट कम्पाउंडिंग को पुराने दर पर 4 सितम्बर, 2019 से बढ़ाकर 31 दिसम्बर, 2019 तक लेने को मंजूरी दी गई। इसके पूर्व यदि किसी ने बढ़ी दर पर शुल्क जमा किया है, तो उसको वापस किया जाएगा।

- कौशिक ने बताया कि कैबिनेट ने जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण चम्पावत के कुछ हिस्से पूर्णागिरी विकास प्राधिकरण में जोड़ने का निश्चय किया है। अब हरिद्वार-रूड़की विकास प्राधिकरण, देहरादून-मसूरी विकास प्राधिकरण एवं पौड़ी विकास प्राधिकरण की ओवरलैपिंग की समस्या के समाधान करने के लिए जिस जिले में कोई क्षेत्र संबंधित होगा, उसी जनपद के प्राधिकरण के अन्तर्गत वह क्षेत्र शामिल किया जाएगा।

- गंगोत्री विशेष क्षेत्र प्राधिकरण को जिला स्तरीय उत्तरकाशी विकास प्राधिकरण में शामिल किए जााने का निर्णय किया गया है। जल नीति पर चर्चा करते हुए अगली कैबिनेट में निर्णय लेने की सहमति बनी है। भागीरथी नदी विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी का पद सचिव नियोजन के स्थान पर अपर सचिव आवास को दायित्व प्रदान करने और अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी का दायित्व संयुक्त सचिव को प्रदान करने की अनुमति दी गई।

- कैबिनेट ने उत्तराखंड भवन निर्माण विकास उपनिधि रेरा में संशोधन की अनुमति के अन्तर्गत ग्रुप हाउसिंग बहुमंजिली भवन के प्रथम चरण के टावर को पूर्ण करते ही ब्रिकी की अनुमति इस शर्त पर देने का निर्णय किया है कि वह संबंधित अवस्थापना सुविधा पार्क, सड़क आदि पूर्ण करेगा। जबकि देहरादून कांसवाली कोठारी में 948 वर्ग फुट भवन निर्माण की सड़क 12 मीटर के स्थान पर, छूट प्रदान करते हुए 11 मीटर की अनुमति दी है।


Nitika

Related News