कोरोनिल दवा को लेकर विवाद में फंसे बाबा रामदेव ने दी सफाई, कही ये बात

7/2/2020 11:42:53 AM

हरिद्वारः पतंजलि योगपीठ के संचालक बाबा रामदेव ने स्पष्ट करते हुए कहा कि केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने पतंजलि योगपीठ द्वारा बनाई गई दवा को कोविड-19 बीमारी के प्रबंधन में सहायक माना है हालांकि उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया की आयुष मंत्रालय ने उनकी औषधि को कोरोना बीमारी की औषधि के रूप में मान्यता दी है।

बाबा रामदेव ने कहा कि हमने सभी मानकों को पूरा करके इस औषधि का लाइसेंस प्राप्त किया है और सभी रोगी इस दवा को लेकर अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर कोरोना वायरस जैसी बीमारी से लड़ सकते हैं। उन्होंने हालांकि स्पष्ट करते हुए कहा कि यह कोरोना बीमारी की वैक्सीन का विकल्प नहीं है। यह केवल एक रेमेडी है जो लोग ऐसी बीमारियों से ग्रस्त है। वह इन दवाइयों को लेकर स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

योगगुरु ने कहा की आयुष मंत्रालय एवं पतंजलि के बीच इस दवा को लेकर कोई विवाद नहीं है बस कुछ मेडिकल टर्मोलॉजी को लेकर संशय बना हुआ है, जिसे दूर कर लिया गया है और आयुष मंत्रालय गाइडलाइन के अनुसार, अब इस दवा को इम्यूनिटी बूस्टर के तौर पर बाजार में उतारा जाएगा।


Nitika

Related News