हरिद्वार में कांवड़ मेला शुरू होते ही यात्रियों की लगी भीड़, व्यापारियों को मिली राहत

punjabkesari.in Friday, Feb 25, 2022 - 03:55 PM (IST)

 

हरिद्वारः उत्तराखंड में करीब 2 वर्ष तक प्रतिबंधित कांवड़ मेले के शुरू होने से जहां हरिद्वार के व्यापारियों को राहत मिली है वहीं कांवड़ मेले में आने वाले शिव भक्त कावड़यिा भी काफी प्रसन्न है। इस बार सरकार ने कांवड़ मेले पर प्रतिबंध नहीं लगाया है, जिसके कारण लाखों की संख्या में कांवड़िए हरिद्वार से गंगाजल भरकर रवाना हो रहे हैं।

गौरतलब है कि कोरोना महामारी के कारण पिछले दो साल से सरकार को कावड़ यात्रा पर प्रतिबंध लगाना पड़ा था जिससे यहां के व्यापारियों को काफी नुकसान भी झेलना पड़ा था व्यापारियों ने सरकार से मांग की थी कि वह मेलों पर प्रतिबंध हटाए और व्यापारियों को राहत दें। हरिद्वार नगर के क्षेत्राधिकारी शेखर सुयाल ने बताया कि इस बार कांवड़ मेले पर किसी प्रकार का कोई प्रतिबंध नहीं है, लेकिन कोरोना महामारी की गाइड लाइन का पालन करने के निर्देश सभी यात्रियों को दिए गए हैं, जिसमें मास्क पहनना अनिवार्य है साथ ही सामाजिक दूरी का भी ध्यान रखने के लिए कहा गया है।

सुयाल ने बताया कि कांवड़ मेले को द्दष्टिगत रखते हुए यातायात एवं भीड़ नियंत्रण के लिए सभी उपाय किए गए हैं सुरक्षा की द्दष्टि से हरिद्वार हर की पौड़ी सहित आसपास के क्षेत्रों में पर्याप्त पुलिस बल भी तैनात किया गया है तथा पूरे मेला क्षेत्र की सीसीटीवी के माध्यम से निगरानी की जा रही है मेले में आने वाले यात्रियों और वाहनों के लिए पर्याप्त पाकिर्ंग व्यवस्था भी की गई है। व्यापारी नेता संजीव नैयर का कहना है कि कोरोना महामारी के कारण हरिद्वार के प्रतिवर्ष लगने वाले कई बड़े मेलों पर लगातार प्रतिबंध लगने से यात्री काफी परेशान था परंतु सरकार ने इस बार यात्रियों की परेशानी को देखते हुए कावड़ यात्रा पर कोई प्रतिबंध नहीं लगाया है, जिससे बाजारों में काफी रौनक है और यात्री काफी खुश है उन्होंने इसके लिए सरकार का आभार व्यक्त किया है।

तीर्थ पुरोहित उज्जवल पंडित का कहना है कांवड़ यात्रा में शिवभक्त हरिद्वार आकर अपनी कावर में जल भरते हैं और अपने अभीष्ट शिवालयों में अर्पित करके यात्रा को पूरी करते हैं। उन्होंने बताया कि भगवान परशुराम ने इस यात्रा को शुरू किया था, जो अनादि काल से परंपरागत रूप से चलती आ रही है। इससे आस्था वान लोगों को काफी राहत मिली है। वह हरिद्वार के व्यापारी एवं पुरोहित समाज को भी इसका काफी लाभ मिलेगा। शिवभक्त कावड़िए कुंवर पाल ने भी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड सरकार का आभार व्यक्त करते हुए बताया कि वह बुलंदशहर से जल लेने हरिद्वार आए हैं और यहां से जल भरकर वह अपने नगर के शिवालय में जलाभिषेक करेंगे।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Nitika

Related News

Recommended News

static