हरिद्वार एवं उधमसिंहनगर की सहकारी समितियों में UREA, DAP और NPK उर्वरकों का स्टॉक उपलब्ध

punjabkesari.in Sunday, Jul 03, 2022 - 11:11 AM (IST)

 

हरिद्वार(कुलदीप रावत): उत्तराखंड के हरिद्वार एवं उधमसिंह नगर जिले में उर्वरक की कमी की जानकारी सोशल मीडिया के माध्यम से प्राप्त हो रही है एवं किसानों को खाद उपलब्ध नहीं हो पा रही है।सहकारिता विभाग से किसानों को उर्वरक उपलब्ध करवाने की अपेक्षा की गई है।
PunjabKesari
राज्य में इफको उर्वरक की उपलब्धता इफको द्वारा सहकारिता की विपणन सस्था राज्य सहकारी संघ के माध्यम से जनपदों की सहकारी समितियों के द्वारा कृषक सदस्यों को उर्वरकों की आपूर्ति की जाती है।इफको राज्य विपणन प्रबंधक द्वारा अवगत करवाया गया है कि गत खरीफ वर्ष की अपेक्षा इस खरीफ वर्ष में उर्वरक मांग से अधिक किसानों को उर्वरकों की आपूर्ति की गई है। वर्तमान में जनपद हरिद्वार एवं उधमसिंगनगर की सहकारी समितियों में यूरिया 1457 मेट्रिक टन डीएपी 1973 मेट्रिक टन एनपीके 365 मेट्रिक टन उर्वरकों का स्टॉक अवशेष है। फिलहाल उक्त जनपदों में उर्वरकों की कोई कमी नहीं है।

PunjabKesari
सहकारिता विभाग द्वारा खरीफ अभियान माह जुलाई, अगस्त, सितंबर 2022 हेतु जनपद उधमसिंहनगर एवं हरिद्वार के लिए उर्वरक आवंटन हेतु यूरिया 47400 मेट्रिक टन, एनपीके 10700 मेट्रिक टन एवं डीएपी 13400 मेट्रिक टन की भारत सरकार कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय से मांग की गई है,निकट आगामी माह में किसान भाइयों को इफ्को उर्वरक की कोई कमी आने नहीं दी जाएगी। इफको उर्वरकों के अतिरिक्त कृषि विभाग द्वारा अन्य उर्वरक प्रदायकर्ताओ से भी उर्वरकों की आपूर्ति प्रदेश में सीधे किसानों को की जाती हैं। सहकारिता विभाग का लगातार यह प्रयास रहता है। किसानों को उनको जरूरत के समय उर्वरक की आपूर्ति सुनिश्चित हो सके। भविष्य में भी किसानों को किसी प्रकार के उर्वरकों की कमी नहीं होने दी जाएगी।

PunjabKesari
राज्य के मैदानी जनपदों में इफको द्वारा पारंपरिक यूरिया के अतरिक्त प्रचुर मात्रा में सहकारी समितियों के माध्यम सेकी नैनो यूरिया का स्टाक उपलब्ध है। नैनो यूरिया की 500 एमएल की एक बोतल 50 किलो उर्वरक के बराबर कार्य करती है।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Nitika

Related News

Recommended News

static