हरिद्वार के डाडा जलालपुर में स्थिति अब सामान्य, 2 और आरोपी गिरफ्तार

punjabkesari.in Tuesday, Apr 19, 2022 - 06:52 PM (IST)

 

देहरादूनः उत्तराखंड में हरिद्वार जिले के डाडा जलालपुर गांव में 2 दिन पहले हनुमान जयंती पर निकाली गई शोभायात्रा पर पथराव से पैदा हुए सांप्रदायिक तनाव के बाद स्थिति अब सामान्य हो रही है। पुलिस ने यह जानकारी दी। पुलिस ने बताया कि इस मामले में सोमवार को 2 और आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने बताया कि भगवानपुर क्षेत्र के गांव में अब स्थिति सामान्य हो रही है और इसे देखते हुए वहां तैनात पुलिस बल की संख्या भी पहले के मुकाबले कम कर दी गई है।

भगवानपुर के थाना अधिकारी पीडी भट्ट ने बताया कि सोमवार को 2 और आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। उन्होंने बताया कि इस तरह इस मामले में अब तक 11 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। घटना के सिलसिले में 13 लोगों के खिलाफ नामजद और लगभग 40 अन्य अज्ञात लोगों के खिलाफ भारतीय दंड विधान की गंभीर धाराओं 153(ए), 295(ए), 147, 148, 149, 323, 506 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। इस बीच मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) गुरमीत सिंह से मिलकर सत्तारूढ़ भाजपा से जुड़े संगठनों के कार्यकर्ताओं पर भय का माहौल बनाने तथा पुलिस पर एकतरफा कार्रवाई करने का आरोप लगाया और घटना की निष्पक्ष जांच करवाने का आग्रह किया।

हरिद्वार के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक योगेंद्र सिंह रावत ने बताया कि कतिपय तत्वों द्वारा शोभायात्रा पर पथराव किया गया, जिससे गांव का सांप्रदायिक सौहार्द खराब हुआ। उन्होंने बताया कि हालांकि, पुलिस ने वहां तत्काल पहुंचकर स्थिति को नियंत्रित किया। घटना के बाद क्षेत्र में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया था। सांप्रदायिक संवेदनशीलता को देखते हुए हरिद्वार जिले के ज्वालापुर क्षेत्र में भी रविवार की शाम पुलिस तथा अन्य सुरक्षा बलों ने ‘फ़्लैग मार्च' किया था तथा स्थानीय लोगों से शांति व्यवस्था बनाए रखने एवं अफवाहों पर ध्यान नहीं देने की अपील की थी।

ज्वालापुर कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक महेश जोशी ने बताया कि भगवानपुर की घटना के बाद एह​तियात के रूप में क्षेत्र में ‘फ़्लैग मार्च' किया गया। उधर, कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव, प्रदेश अध्यक्ष करन माहरा, कांग्रेस महासचिव एवं पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य तथा अन्य नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल से मुलाकात कर राज्य में बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर उन्हें एक ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि डाडा जलालपुर में धार्मिक आयोजन के मौके पर पथराव की घटना ने राज्य में कानून-व्यवस्था की पोल खोलकर रख दी है।

प्रतिनिधिमंडल ने आरोप लगाया कि सत्ताधारी दल से जुड़े संगठनों के कार्यकर्ता प्रदेश में भय का माहौल बना रहे हैं। कांग्रेस ने प्रशासन एवं पुलिस पर शोभायात्रा के दौरान किसी प्रकार की सुरक्षा के इंतजाम न करने तथा घटना की छानबीन में भी एकतरफा कार्रवाई करने का भी आरोप लगाया। उन्होंने राज्यपाल से घटना की निष्पक्ष जांच करवाने तथा दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आग्रह किया।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Nitika

Related News

Recommended News

static