अमेठी: 161 करोड़ रुपये में हुई प्रदेश की सबसे महंगी रजिस्ट्री

11/16/2020 2:23:18 PM

अमेठी: देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में हर रोज हजारों रजिस्ट्री होती हैं लेकिन शुक्रवार को इतिहास बन गया। जी, हां अमेठी जिले की मुसाफिरखाना तहसील में उत्तर प्रदेश में अब तक की सबसे महंगी रजिस्ट्री हुई है। आदित्य बिरला ग्रुप ने इस रजिस्ट्री के लिए स्टांप शुल्क और पंजीयन शुल्क, दोनों मिलाकर कुल 161 करोड़ रुपये से अधिक ई-पेमेंट के जरिये अदा किए।

आदित्य बिरला ग्रुप की ग्रासिम इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने ग्रुप की आदित्य बिरला नुवो लिमिटेड से शुक्रवार को 833.04 एकड़ (1,332.86 बीघा) की भूमि का लीज परिवर्तन कराया। लीज परिवर्तन उत्तर प्रदेश औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीएसआईडीए) ने किया। इसके लिए ग्रासिम इंडस्ट्रीज ने 1,41,59,52,060 स्टांप शुल्क व 20,22,78,940 रुपये पंजीयन शुल्क अदा किया। 

कंपनी की तरफ से यह रजिस्ट्री शुक्रवार को ग्रासिम इंडस्ट्रीज के ज्वाइंट प्रेसीडेंट सुरेश चंद्र डाड ने कराई। रजिस्ट्री के बाद उप निबंधक भानुप्रताप सिंह ने इसके दस्तावेज सुरेश चंद्र को सौंप दिए। एडीएम वंदिता ने बताया कि शुक्रवार को हुई यह रजिस्ट्री स्टांप शुल्क की दृष्टि से प्रदेश की अब तक की सबसे बड़ी रजिस्ट्री है।

अमेठी के एडीएम ने बताया कि कंपनी पहले भी लीज परिवर्तन की तीन रजिस्ट्री करा चुकी है। कंपनी ने पहली रजिस्ट्री के लिए 26 लाख 21 हजार 800 रुपये का स्टांप व पांच लाख 58 हजार 570 रुपये का रजिस्ट्री शुल्क, दूसरी रजिस्ट्री के लिए 34 करोड़ 36 लाख 52 हजार 700 रुपये का स्टांप व छह करोड़ 81 लाख 95 हजार 440 रुपये का रजिस्ट्री शुल्क तथा तीसरे में 25 लाख 88 हजार 900 रुपये का स्टांप व पांच लाख 44 हजार 470 रुपये का रजिस्ट्री शुल्क चुकाया था।

मुसाफिरखाना के उप निबंधक कार्यालय को एक अप्रैल से 13 नवंबर 2020 तक अलग-अलग प्रकार की रजिस्ट्री में लगने वाले स्टांप व रजिस्ट्री शुल्क से दो अरब 14 करोड़ 79 लाख 84 हजार 550 रुपये की आय हुई है। इस आय में दो अरब तीन करोड़ 63 लाख 92 हजार 880 रुपये सिर्फ इस कंपनी की चार रजिस्ट्री से प्राप्त हुए हैं। अन्य से प्राप्त आय मात्र 11 करोड़ 15 लाख 91 हजार 670 रुपये है। 
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Ajay kumar

Recommended News

static