STF की बड़ी कार्रवाई, TET परीक्षा में WhatsApp से हो रही नकल का किया भंडाफोड़

1/8/2020 6:43:02 PM

गाजीपुर: पूरे उत्तर प्रदेश में टीईटी परीक्षा का आयोजन 8 जनवरी 2020 को आयोजित किया गया। इस परीक्षा को नकल विहीन बनाने के लिए प्रशासन ने अपने सारे तंत्र लगा रखे थे, एलआईयू, एसटीएफ के साथ पुलिस के मुखबिर लगातार पल पल की सूचना पुलिस अधिकारियों तक पहुंचा रहे थे। इसी क़ड़ी में गाजीपुर में एसटीएफ ने कार्रवाई करते हुए नकल करा रहे 4 लोगों को गिरफ्तार किया। आरोपियों को गाजीपुर के एक परीक्षा केंद्र से गिरफ्तार किया है।|

दरअसल, गाजीपुर के छावनी लाइन स्थित बुद्धम शरणम इंटर कॉलेज में टीईटी परीक्षा के प्रथम पाली की परीक्षा चल रही थी। यूपी एसटीएफ को सूचना मिली थी कि इस विद्यालय में व्हाट्सएप के माध्यम से नकल कराया जा रहा है। एसटीएफ ने छापेमारी की और मौके से प्रिंसिपल समेत चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए चारों आरोपियों के खिलाफ सदर कोतवाली में मामला दर्ज कराया गया है और कानूनी कार्रवाई करते हुए उन्हें जेल भेज दिया है। आपको बता दें कि बुद्धम शरणम इंटर कॉलेज नकल के मामले में गाजीपुर का एक बदनाम कालेज है और इसके पहले भी कालेज पर कई बार नकल कराने के आरोप में कार्रवाई हो चुकी है।

साल 2016 में इस कॉलेज में हुए पॉलिटेक्निक की प्रवेश परीक्षा में एक बड़ा नकल कांड सामने आया था जब प्रवेश परीक्षा में बुद्धम शरणम इंटर कॉलेज के एक ही कमरे के 10 छात्र टॉप टेन की लिस्ट में आ गए थे। इसको लेकर पूरे प्रदेश में हड़कंप मचा था और बुद्धम शरणम कॉलेज को ब्लैक लिस्टेड किया गया था। इस मामले में उस समय 32 लोगों पर मुकदमा दर्ज हुआ था। लेकिन जिला विद्यालय निरीक्षक के द्वारा ऐसे दागी सेंटर को दोबारा परीक्षा केंद्र बनाया गया और टीईटी की परीक्षा में भी सेंटर दिया गया। एसटीएफ की कार्रवाई से नकल का खेल अभी भी प्रदेश की हर परिक्षाओं में किस तरह से खेला जा रहा है यह बात पूरी तरह से खुलकर सामने आ गई है।

जब जिलाधिकारी से इस मामले पर बात की गई तो उन्होंने बताया कि जिला विद्यालय निरीक्षक की रिपोर्ट के अनुसार यह विद्यालय कभी भी ब्लैक लिस्ट नहीं किया गया। जाहिर है या तो जिलाधिकारी खुद अपना बचाव करना चाह रहे हैं या जिला विद्यालय निरीक्षक द्वारा उनको गलत सूचना दी गई है। नकल का खुला खेल जिला प्रशासन की नाक के नीचे खेला गया लेकिन एसटीएफ ने सारी पोल खोल कर रख दी। अब देखने वाली बात यह होगी की दोषियों पर कार्रवाई होती है या आगे भी नकल का खुला खेल जनपद में जारी रहता है।

प्रयागराज में भी मुख्य सरगना समेत 7 अभियुक्तों को STF ने किया गिरफ्तार
प्रयागराज: उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में भी मुख्य सरगना समेत कॉलेज प्रबंधक, दलाल, सॉल्वर, मोबाइल एवं सिम डीलर के साथ कुल 7 अभियुक्तों को एसटीएफ ने गिरफ्तार किया है। जिनके कब्जे से 180 मोबाइल फोन, 220 प्री एक्टीवेटड सिम, 1 ब्लूटूथ स्पीकर डिवाइस, 1 इनोवा कार, 1टाटा मांजा कार, 2 मोटर साईकिल और 411000 लाख रूपये नगद वरामद किया है।

7 अभियुक्तों के नाम एवं पते इस प्रकार हैं-
1. मुख्य सरगना संजय उर्फ राकेश सिंह पुत्र रघुनंदन सिंह निवासी 502 स्टर्लिंग अपार्टमेंट अशोक नगर इलाहाबाद।
2. कॉलेज प्रबंधक "पंचम लाल आश्रम इंटर कॉलेज" चंद्रमा सिंह यादव पुत्र बर्फी लाल निवासी 108p गंगा विहार कॉलोनी टीपी नगर धूमनगंज इलाहाबाद।
3. पेपर आउट कराने वाला दलाल अश्वनी कुमार श्रीवास्तव पुत्र श्री कृष्ण देव लाल निवासी ईडी-432 एडीए कॉलोनी नैनी प्रयागराज।
4. कैंडिडेट प्रोवाइडर अमित यादव पुत्र श्री मौजी यादव निवासी 16 /62 न्यू बस्ती सोहबतियाबाग प्रयागराज।
5. मोबाइल एवं सिम प्रोवाइडर राजेन्द्र कुमार यादव  पुत्र राममूर्ति यादव निवासी 25-B, अमरनाथ झा मार्ग जॉर्ज टाउन इलाहाबाद।
6. सॉल्वर विनोद कुमार साह पुत्र श्री कन्हैया प्रसाद साह निवासी 17A/19 b/4a राजापुर इलाहाबाद।
7.  सॉल्वर राजेश मिश्रा पुत्र दुर्गा प्रसाद मिश्रा निवासी 174/41A/29घ , तिलक नगर अल्लापुर प्रयागराज।

UPTET परीक्षा में पुलिस ने पकड़ा फर्जी ABSA
अलीगढ़: सीओ सिविल लाइंस अनिल समानिया ने
जानकारी देते हुए बताया कि बुधवार को पूरे प्रदेश में UPTET की परीक्षा चल रही थी। जिसके तहत अलीगढ़ जनपद के टी आर डिग्री कॉलेज में परीक्षा केंद्र बनाया गया था। जिसके बाहर परीक्षार्थियों द्वारा प्रवेश पत्र ऑनलाइन निकाला जा रहा था। जिस पर सासनी गेट निवासी अमन गुप्ता नाम का एक व्यक्ति एबीएसए नगर क्षेत्र के नाम की मोहर लगाकर 50-50 रुपए ले रहा था। जिसकी सूचना पुलिस को मिली तो मौके पर पहुंची पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर थाना क्वार्सी में भेज दिया है। जिसके बाद पुलिस पूछताछ कर उसके विरुद्ध अग्रिम कार्रवाई कर रही है। पुलिस ने आरोपी के पास से 2 मोहर तथा एक मोबाइल फोन बरामद किया है।
 


Tamanna Bhardwaj

Related News