लखीमपुर हिंसा: FSL की रिपोर्ट में बड़ा खुलासा, मुख्य आरोपी आशीष और अंकित के असलहों से चली थी गोलियां

punjabkesari.in Tuesday, Nov 09, 2021 - 01:05 PM (IST)

लखनऊ: लखीमपुर हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट की नाराजगी जताने के बाद फॉरेंसिक लैब की रिपोर्ट आ गई है, जिसमें हिंसा के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा और उसके दोस्त अंकित दास के असलहों से फायरिंग की पुष्टि हुई है। फिलहाल दोनों आरोपी जिला जेल में बंद है।

फॉरेंसिक लैब के अनुसार, तिकुनिया में हुए उपद्रव के दौरान केंद्रीय राज्य गृह मंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्रा की राइफल और अंकित दास की रिपीटर गन और रिवाल्वर से फायरिंग की गई थी। वहीं, अंकित दास व लतीफ ने SIT के सामने ही जान बचाने के लिए फायरिंग की बात स्वीकार की थी। बता दें कि हिंसा के दौरान मृतक किसानों के परिजनों की मांग करने के बाद फायरिंग की जांच शुरु गई थी, जिसमें फोरेंसिक जांच करने के लिए आशीष और अंकित के लाइसेंसी असलहों को पुलिस के द्वारा जब्त कर लिया गया था। इसके साथ ही 8 मोबाइल भी जब्त किए गए है, उसकी भी रिपोर्ट जल्द आने की संभावना है।

क्या है लखीमपुर खीरी कांड?
लखीमपुर खीरी में 3 अक्टूबर को प्रदर्शनकारी चार किसानों समेत 8 लोगों की मृत्यु हो गई थी। इस मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के पुत्र आशीष मिश्रा आरोपियों में शामिल है। पुलिस ने आशीष समेत 12 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। एक साल से आंदोलनरत किसान 3 अक्टूबर को केंद्रीय राज्य मंत्री के गांव में आयोजित एक कार्यक्रम में पहुंचे उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के आगमन का सड़कों पर विरोध कर रहे थे। आरोप है कि प्रदर्शनकारी किसानों को आशीष की कार से कुचल दिया गया। इस कार में अन्य आरोपियों के साथ आशीष भी सवार था। कार से कुचलकर चार आंदोलनकारी किसानों की मृत्यु के बाद भड़की हिंसा में चार अन्य लोग मारे गए थे, जिनमें एक कार चालक और एक स्थानीय पत्रकार शामिल हैं। हिंसक भीड़ में ने कई गाड़यिों में आग लगा दी थी।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Umakant yadav

Related News

Recommended News

static