चित्रकूट जेल शूटआउट PM रिपोर्टः  मेराज पर 3 तो मुकीम पर दागीं थी 13 गोलियां, खुद पुलिस की 20 गोलियों से मारा गया अंशु

punjabkesari.in Saturday, May 15, 2021 - 06:51 PM (IST)

चित्रकूटः  उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जेल में हुए गैंगवार में मारे गए पश्चिमी यूपी के गैंगस्टर मुकीम उर्फ काला को अंशु दीक्षित ने 9MM पिस्टल से 13 गोलियां मारी थीं। इससे उसका शरीर छलनी हो गया था। इसका खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट से हुआ है। अंशु ने मुख्तार के करीबी मेराज को तीन गोली मारने के बाद मुकीम पर अंधाधुंध फायरिंग की थी। आशंका है कि अंशु के पास न सिर्फ पिस्टल पहुंचाई गई, बल्कि इसके साथ उसे डबल मैग्जीन भी मुहैया कराई गई।

पुलिस ने शुक्रवार रात ही मेराज के शव का पोस्टमार्टम करवाया। उसके सिर में एक और सीने में दो गोलियों के निशान मिले। लेकिन शनिवार को मुकीम और अंशु की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई वह जेल में करीब डेढ़ घंटे चले खूनी खेल की तस्वीर पेश करने वाली है। मुकीम का बदन गोलियों से छलनी हो चुका था। उसके शरीर मे 13 फायर आर्म इंजरी और करीब 5 बुलेट धंसे मिले। अंशु के शरीर में करीब 20 फायर आर्म इंजरी मिलीं वह पुलिस की गोलियों से मारा गया था।

अहाते में दौड़ा-दौड़ाकर 40 मिनट तक बरसाता रहा गोलियां
पुलिस सूत्रों के मुताबिक, सभी बुलेट 9MM पिस्टल से दागे गए हैं। इससे साफ हो रहा है कि जेल में वारदात को अंजाम देने के लिए अंशु के पास घातक 9MM बोर की पिस्टल के साथ दो एक्स्ट्रा मैगजीन भी पहुंचाई गईं। मेराज को मौत के घाट उतारने के बाद अंशु मुकीम के पास पहुंचा। पहली गोली लगते ही मुकीम जान बचाने के लिए बैरक से बाहर भागा। अंशु भी उसके पीछे अहाते में आ गया। मुकीम चिल्ला-चिल्लाकर आसपास नजर आ रहे जेल सुरक्षाकर्मियों से जान बचाने की गुहार लगाता रहा और अंशु मुकीम को अहाते में दौड़ा-दौड़ाकर उस पर गोलियां बरसाता रहा। घटना के समय जेल में मौजूद सूत्रों ने बताया कि अंशु करीब 45 मिनट तक मैग्जीन बदल-बदलकर फायर करता रहा और पुलिस बेबस रही। अंशु का मकसद पूरा होने के बाद पुलिस ने ऑपरेशन शुरू किया। जिसमें अंशु मारा गया। पूरा घटनाक्रम करीब डेढ़ घंटे तक चला।

बनारस जेल से लाया गया था मुकीम, सहारनपुर से काला चित्रकूट जेल में शुक्रवार (14 मई) को कैदियों के बीच गोलियां चलीं। इसमें पश्चिमी उत्तर प्रदेश के गैंगस्टर अंशु दीक्षित ने मुख्तार अंसारी के खास गुर्गे मेराज और बदमाश मुकीम काला की गोली मारकर हत्या कर दी। मेराज बनारस जेल से भेजा गया था, जबकि मुकीम काला सहारनपुर जेल से लाया गया था। पुलिस ने अंशु दीक्षित को सरेंडर करने के लिए कहा, लेकिन वह फायरिंग करता रहा। बाद में पुलिस की जवाबी कार्रवाई में अंशु भी मारा गया।

अफसरों ने शासन को सौंपी रिपोर्ट
CM योगी आदित्यनाथ ने शूटआउट के मामले में DG जेल से 6 घंटे में रिपोर्ट तलब की। कमिश्नर डीके सिंह, DIG के सत्यनारायण और ADG जेल संजीव त्रिपाठी ने मामले की जांच की है। वहीं, देर शाम चित्रकूट के जेल अधीक्षक एसपी त्रिपाठी, जेलर महेंद्र पाल समेत पांच कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया गया है।

जेल डिपार्टमेंट में बड़े फेरबदल भी हुए हैं
संजीव त्रिपाठी को DIG जेल प्रयागराज और अयोध्या रेंज का प्रभार दिया गया। वहीं, शैलेंद्र कुमार मैत्रेय को DIG जेल हेडक्वार्टर और DIG लखनऊ का प्रभार मिला है। इनके अलावा अशोक कुमार सागर को चित्रकूट जेल का सुपरिटेंडेंट बनाया गया है। जबकि सीपी त्रिपाठी को चित्रकूट का जेलर नियुक्त किया गया।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Moulshree Tripathi

Related News

Recommended News

static