Etawah: आवासीय विद्यालय के 11वीं के छात्र की मौत पर प्रधानाचार्य और वाडर्न पर हत्या की FIR, माता-पिता की था इकलौती संतान

punjabkesari.in Tuesday, Apr 19, 2022 - 08:54 PM (IST)

इटावा: उत्तर प्रदेश में इटावा जिले के सिविल लाइन इलाके में स्थित पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय आश्रम पद्धति स्कूल में अध्ययनरत कक्षा 11 के छात्र की रेलगाड़ी से कट कर मौत के मामले में प्रधानाचार्य और वाडर्न के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है। छात्र के परिजनों के स्कूल के प्रधानाचार्य निर्मल चंद बाजपेई पर गंभीर आरोप लगाए हैं।

PunjabKesari
मामले की गंभीरता को देखते हुए कानपुर से फोरेंसिक की टीम पूरे घटनास्थल स्कूल और छात्रावास की गहनता से पड़ताल करने में जुटा हुआ है। प्रदेश सरकार ने भी छात्र की मौत को लेकर के गंभीरता दिखाई है। समाज कल्याण प्रमुख सचिव हिमांशु कुमार मसले की जांच के इटावा आये। एसएसपी जयप्रकाश सिंह ने बताया कि जैसे ही मामला संज्ञान में आया वैसे ही पूरे मामले को लेकर के पीड़ित परिवार के परिजनों की ओर से सिविल लाइन थाने में धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज करके पड़ताल शुरू कर दी है।

दोपहर बाद छात्र के शव का तीन डाक्टरो के पैनल के जरिये पोस्टमाटर्म करके कडी सुरक्षा के बीच अंतिम संस्कार के लिए रवाना कर दिया गया। जहॉ देर शाम पचनदा पर उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया। जिलाधिकारी श्रीमती श्रुति सिंह का कहना है कि छात्र की मौत के बाद खुद उन्होंने ओर एसएसपी ने सयुक्त रूप से घटना स्थल की गहनता से पड़ताल की है। छात्र की मौत के बाद जो तथ्य सामने आए हैं उस को ध्यान में रखते हुए गहनता से पड़ताल की जा रही है। डीएम एसएसपी कईयो अन्य अधिकारियो के साथ पोस्टमाटर्म स्थल पर पीड़ित परिवार के सदस्यों से जाकर मिले और उन्हें कार्यवाही के लिए भरोसा दिया है।

मामला पंडित दीनदयाल आश्रम पद्धति आवासीय विद्यालय का है जहां 17 अप्रैल को 11 वीं का छात्र अदियंत दीक्षित (16) लापता हो गया। स्कूल प्रबंधन मामले को छिपाए रहा। परिजनों ने बताया कि स्कूल में आने जाने वाले की एंट्री होती है। छात्र का कमरा स्कूल के तीसरी मंजिल में है। ऐसे में स्कूल से भाग पाना संभव नहीं है। 18 अप्रैल को राहतपुरा रेलवे ट्रैक पर एक किशोर का शव मिला था लेकिन उसकी शिनाख्त नहीं हो पाई थी। पुलिस ने परिजनों से उस शव की शिनाख्त कराई तो उसकी पहचान अदियंत दीक्षित के रूप में की। अदियंत इकलौता बेटा था। वह दो साल से आवासीय विद्यालय में पढ़ रहा था।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Mamta Yadav

Related News

Recommended News

static