ऑस्ट्रेलिया के उच्चायुक्त बैरी ओ फारेल ने की योगी सरकार की तारीफ, कहा- कोरोना काल में असाधारण रहा UP का काम

2/27/2021 8:58:21 AM

लखनऊ:  भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चुनावों की तुलना करते हुए भारत में ऑस्ट्रेलिया के उच्चायुक्त बैरी ओ फारेल ने शुक्रवार को कहा कि प्राय: ऑस्ट्रेलिया में भी भारतीय वोट महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उन्होंने शुक्रवार को उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा के साथ मुलाकात कर कहा कि प्रत्येक 35 ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों में से व्यक्ति एक भारतीय मूल का है।

फारेल ने कहा कि वर्तमान में ऑस्ट्रेलिया भारत की तुलना में बहुत छोटा देश है लेकिन ऑस्ट्रेलिया के सात लाख नागरिक भारतीय मूल के हैं जहां भारतीय प्रवासियों की संख्या बढ़ती जा रही है। उन्होंने कहा, ‘‘हम राज्य और राष्ट्रीय संसदों में भारतीय मूल के लोगों को देख रहे हैं।’’ कोविड-19 के खिलाफ जंग में उत्तर प्रदेश की भूमिका की सराहना करते हुए ऑस्ट्रेलियाई उच्चायुक्त ने कहा, "एक राष्ट्र के रूप में भारत का प्रदर्शन तो सराहनीय है ही, लेकिन विशेष रूप से कोविड के खिलाफ सबसे बड़े राज्य का प्रदर्शन असाधारण रहा है। मुझे लगता है कि इस देश में किए गए प्रयास मजबूत नेतृत्व को प्रदर्शित करते हैं, नागरिकों का समर्थन बीमारी को हरा सकता है।

भारत और ऑस्ट्रेलिया के संबंधों के बारे में फारेल ने कहा कि कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री के बीच गहरी मित्रता है।
उन्होंने कहा कि कोविड-19 दौरान जब लोग एक-दूसरे से दूर हो रहे थे तो उस दौर में भारत एवं ऑस्ट्रेलिया के संबंध और भी अधिक गहरे हुए।
फारेल ने कहा कि उत्तर प्रदेश और ऑस्ट्रेलिया के बीच में सहयोग की अच्छी संभावना है। उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति आने के बाद ऑस्ट्रेलिया तथा अन्य देशों के विश्वविद्यालयों के लिए उत्तर प्रदेश जैसे राज्य में परिसर खोलने के संबंध में संभावनाएं उत्पन्न हुई हैं। इसके साथ ही ऑस्ट्रेलिया सरकार इस दिशा में भी कार्य कर रही है कि कोविड के बाद भारत के छात्र ऑस्ट्रेलिया आकर पुनः शिक्षा ग्रहण कर सकें।

ऑस्ट्रेलियाई उच्चायुक्त ने कहा कि पिछले 12 महीनों में यह रिश्ता केवल रणनीतिक रूप से करीब नहीं आया है, बल्कि आर्थिक और अन्य क्षेत्रों में भी दोनों देश करीब आए हैं। उत्तर प्रदेश में ऑस्ट्रेलियाई विश्वविद्यालयों के परिसर खोलने की योजनाओं पर उन्होंने कहा कि केंद्र द्वारा घोषित नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति ने उन अवसरों के बारे में ऑस्ट्रेलियाई विश्वविद्यालयों को प्रोत्साहित किया है। ऑस्ट्रेलियाई उच्चायुक्त ने माध्यमिक शिक्षा एवं उच्च शिक्षा तथा आईटी इलेक्ट्रॉनिक्स क्षेत्र के प्रति भी रुचि दिखाई। उन्होंने नोएडा क्षेत्र में बन रहे इलेक्ट्रॉनिक विनिर्माण हब का जल्द ही अपनी टीम के साथ दौरा करने की बात भी कही और आईटी एवं इलेक्ट्रॉनिक्स के क्षेत्र में निवेश की संभावनाओं के बारे में भी इच्छा जताई।

 


Content Writer

Moulshree Tripathi

Related News