BJP-MLA ने प्रियंका के आरोपों को किया खारिज, कहा- ‘कार्यकर्ता पर आरोप साबित हुआ तो पद छोड़ दूंगा’

10/18/2020 7:32:09 PM

लखीमपुर खीरी: जिले के भारतीय जनता पार्टी के विधायक ने कथित रूप से दर्जनों नेताओं और कार्यकर्ताओं संग मोहम्‍मदी थाना परिसर में घुसकर अपनी पार्टी के कार्यकर्ता शिब्‍बू सिंह को पुलिस हिरासत से मुक्‍त कराया है। इस संबंध में कांग्रेस पार्टी की राष्‍ट्रीय महासचिव और उत्‍तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कर मुख्‍यमंत्री से सवाल किया है। जिसके बाद विधायक लोकेंद्र सिंह ने प्रियंका के आरोपों को सिरे से खारिज किया है।

भाजपा विधायक लोकेंद्र सिंह ने कहा, ‘‘अगर कार्यकर्ता के खिलाफ छेड़छाड़ के आरोप सिद्ध हो जाते हैं तो मैं विधायक का पद छोड़ दूंगा, लेकिन अगर इस तरह के आरोप बेबुनियाद पाए जाते हैं तो झूठे आरोप लगाने वालों को माफी मांगनी चाहिये।'' भाजपा विधायक ने कांग्रेस नेता वाड्रा और उनके भाई राहुल गांधी के उस ट्वीट पर गहरी पीड़ा व्‍यक्‍त की जिसमें दोनों ने उपरोक्त घटना की खबर को रीट्वीट करते हुए मुख्‍यमंत्री से सवाल किया है। विधायक ने पलटवार किया कि यह कांग्रेस नेताओं की मतलबी मानसिकता की अभिव्‍यक्ति थी जिन्‍होंने कल शाम हुई घटना को तोड़-मरोड़ कर राई का पहाड़ बना दिया।

बातचीत में लोकेंद्र प्रताप सिंह ने स्‍वीकार किया कि शुक्रवार की रात वह मोहम्‍मदी थाना गए थे। उन्‍होंने कहा कि जब वह थाना में पहुंचे तो मामला शांत हो गया और शिब्‍बू सिंह को पुलिस हिरासत से रिहा कर दिया गया। लोकेंद्र प्रताप सिंह ने इस घटना को गलत तरीके से पेश किए जाने की बात कही। उन्‍होंने कहा कि शिब्‍बू सिंह ने जरूर खराब व्‍यवहार किया लेकिन छेड़छाड़ का आरोप गलत है। जानकारों के मुताबिक पार्टी कार्यकर्ता शिब्‍बू सिंह को शुक्रवार को रामलीला मैदान में महिला से छेड़खानी और पुलिसकर्मियों से दुर्व्‍यवहार करने के आरोप में पुलिस ने हिरासत में लिया था।

हालांकि भाजपा विधायक का कहना है कि शिब्‍बू सिंह के खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं कराया गया है और नाहीं थाने में कोई तहरीर दी गई। विधायक ने कहा कि जब उन्‍हें सूचना मिली कि शिब्‍बू सिंह को पुलिस ने हवालात में डाल दिया है तो वह कार्यकर्ताओं संग थाने में गये और प्रभारी निरीक्षक से उन्हें रिहा करने का अनुरोध किया। निरीक्षक ने बताया कि शिबू हल्‍के नशे में था और यह कोई बड़ी बात नहीं थी, इसलिए उसे रिहा कर रहा हूं।

विधायक ने कहा कि शिब्‍बू के रिहा होने से मामला समाप्‍त हो गया। उन्‍होंने विरोधियों द्वारा उठाये गये सवाल पर तीखी प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए कहा, ‘‘''मैं सभी तरह की जांच के लिए तैयार हूं-सीबीआई, सीआईडी जो भी हो। हमारे कार्यकर्ता ने कोई गलत काम नहीं किया है।''

कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने इस घटना को लेकर उत्‍तर प्रदेश सरकार की खिंचाई की और इसे राज्‍य के अपराधियों को बचाने के मिशन के रूप में करार किया। प्रियंका ने मोहम्‍मदी थाने में विधायक के जाने की खबरों के साथ ट्वीट कर पूछा, ‘‘क्‍या प्रदेश के मुख्यमंत्री बताएंगे कि यह किस मिशन के तहत हो रहा है। बेटी बचाओ या अपराधी बचाओ।''

राहुल गांधी ने ट्वीट किया ''यह कैसे शुरू हुआ-बेटी बचाओ। यह कैसे चल रहा है-अपराधी बचाओ।'' राहुल के इस ट्वीट में एक खबर टैग की गई है जिसका शीर्षक है भाजपा विधायक ने बेटे के साथ पुलिस थाने पर बोला हमला, छुड़ाकर ले गये छेड़छाड़ का आरोपी। विधायक ने इन सभी आरोपों पर कांग्रेस नेताओं को कठघरे में खड़ा किया है।


Umakant yadav

Related News