जानिए सीएए पर क्या बोले सत्येंद्र दास और इकबाल अंसारी?

punjabkesari.in Monday, Jan 27, 2020 - 06:14 PM (IST)

अम्बेडकर नगर: उत्तर प्रदेश के अंबेडकर नगर जिले के कस्बा टांडा में चंद युवाओं की टोली ने सद्भावना की ऐसी मिशाल पेश की है कि हर तरफ लोग तारीफ कर रहे हैं। पिछले 17 सालों से सेवा को ही अपना धर्म समझने वाले इन युवाओं ने गरीब, असहाय और बेसहारा बेटियों की शादी का जिम्मा उठाना शुरू किया था और अब तक लगभग 9 सौ बेटियों की शादियां अपने खर्चे से करा चुके हैं। सर्वधर्म सामूहिक विवाह के बैनर तले इस बार यह आयोजन सद्भावना की मिशाल पेश करता नजर आया। इस आयोजन में बिना किसी भेदभाव के सभी जाति धर्म के साथ-साथ सभी राजनीतिक पार्टियों और देश के सबसे लंबे समय तक चलने वाले अयोध्या के मुकदमे के बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी और राम जन्मभूमि के मुख्य पुजारी सत्येंद्र दास जी एक साथ पहुंच कर  वर वधू को आशीर्वाद दिया।
PunjabKesari
बता दें कि सामूहिक विवाह के इस कार्यक्रम में पहुंचे राम जन्म भूमि के मुख्य पुजारी सत्येंद्र दास जी और बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी द्वारा वर बधू को आशीर्वाद देने के बाद अमन एवं शांति के लिए सम्मानित भी किया गया। इस मौके पर सत्येंद्र दास जी ने कहाकि बेटियों की शादी कराना बहुत ही पुनीत कार्य है। पत्रकारों से वार्ता करते हुए नागरिकता संशोधन कानून पर उपजे विवाद पर सत्येंद्र दास जी ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील के साथ ही कहा कि नागरिकता संशोधन कानून पिछले कई सालों से लंबित रहा, जिसे मोदी जी ने पूरा किया है। उन्होंने कहा कि इस कानून से किसी भी देशवासी का कोई नुकसान नहीं है। इसलिए इसको लेकर सभी को शांति बनाए रखनी चाहिए।
PunjabKesari
वहीं बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने इस आयोजन की तारीफ करते हुए कहा कि इस देश मे हिन्दू, मुस्लिम, सिख और ईसाई सभी भाई हैं और सदियों तक रहेंगे। नागरिकता कानून को लेकर देश में जो अशांति उपजी है, उसको लेकर इकबाल अंसारी ने कहा कि वे हमेशा ही लोगों से शांति की अपील करते रहे हैं और इस मौके पर वे बेटियों की शादी में शामिल होने आए हैं, इसलिए वे कानून पर कुछ नही बोलेंगे।
PunjabKesari
कार्यक्रम के आयोजक धर्मवीर सिंह बग्गा ने बताया कि गरीब और बेसहारा बेटियों का विवाह कराना उनका अब आजीवन मकशद बन चुका है। इस कार्य में उनके साथ कई युवा शामिल हैं। उन्होंने कहा कि उनके आयोजन में बिना किसी भेदभाव के संत महात्मा के साथ सभी राजनीतिक दलों के लोग शामिल होकर सद्भावना की मिशाल पेश की है और इस आयोजन को सफल बनाने में सहयोग किए हैं।

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Ajay kumar

Related News

Recommended News

static